ग्रीस गर्त के मुहाने पर

ग्रीस के राष्ट्रपति ने आगाह करते हुए कहा है कि उनका देश गर्त के मुहाने पर खड़ा है. राष्ट्रपति ने एक बयान जारी कर कहा है कि ये सबकी ज़िम्मेदारी है कि ग्रीस इस ओर न जा पाए.

आर्थिक संकट से गुज़र रहे ग्रीस में बुधवार को हिंसक प्रदर्शनों के दौरान एक बैंक को आग लगा दी गई थी जिसमें तीन कर्मचारियों की मौत हो गई. इनमें से एक महिला गर्भवती थी.

प्रदर्शनकारी सरकारी ख़र्च में कटौती और करों में वृद्धि के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे थे.

आर्थिक संकट से उबारने के लिए ग्रीस को 110 अरब यूरो का सहायता पैकेज दिया जा रहा है लेकिन इसके साथ कुछ शर्तें भी जुड़ी हुई हैं.

इसमें खर्च में कटौती की बात शामिल है जिसके तहत वेतन में बढ़ोतरी पर रोक, पेंशन में कटौती और करों में वृद्धि की जाएगी.

इस पर संसद में चर्चा करते हुए ग्रीस के वित्त मंत्री ने कहा है कि ग्रीस ये राजनीतिक कीमत चुकाने के लिए तैयार है.

आशंका जताई जा रही है कि ग्रीस के आर्थिक संकट का असर अन्य देशों पर भी पड़ सकता है. खर्च मे कटौती संबधी बिल पर वहाँ की संसद में हफ़्ते के अंत तक वोटिग होनी शामिल है संकट को लेकर ग्रीस में तीन बार हड़ताल हो चुकी है और बुधवार के प्रदर्शन हिंसक हो गए थे और तीन लोगों को जान गंवानी पड़ी.

इस बीच जर्मनी की संसद पर ग्रीस की मदद को लेकर विचार चल रहा है.

संबंधित समाचार