ग्रीस में वेतन भत्तों में कटौती का विरोध

एथेंस की सड़को पर हड़ताल
Image caption सरकारी कर्मचारी उनके भत्तों और तनख़्वाह में कटौती का विरोध कर रहे हैं

ग्रीस की ट्रेड यूनियनों ने सरकार के ख़र्चों में कटौती कार्यक्रम का विरोध तेज़ कर दिया है.

तीन साल से लगातार गंभीर मंदी का सामना कर रही ग्रीस की अर्थव्यवस्था के लिए 110 बिलियन अमरीकी डॉलर का एक अंतरराष्ट्रीय राहत कोष बनाया गया है.

इसी कोष की शर्तों के तहत सरकार ने ख़र्चों की कटौती का कार्यक्रम शुरु किया है.

सरकार के इस अभियान का सरकारी अधिकारियों की तनख़्वाह और भत्तों पर काफ़ी असर पड़ रहा है और वो इसके विरोध में आज से 48 घंटों की हड़ताल पर जा रहे हैं.

लेकिन बुधवार से हालात और भी गंभीर होने वाले हैं क्योंकि पांच मई को राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया गया है.

इसी बीच असंतोष का एक और संकेत तब सामने आया जब अध्यापकों का एक समूह ग्रीस की राजधानी एथेंस के सरकारी ब्रॉडकास्ट स्टूडियो में घुस गया.

एक और चिंताजनक घटनाक्रम में सशस्त्र बलों के क़रीब 120 सदस्यों ने एथेंस में मूक परेड में हिस्सा लिया है. ये लोग भी अपने भत्तों में कटौती का विरोध कर रहे थे.

मंदी

ग्रीस पिछले तीन सालों से भारी मंदी की चपेट में है. ये देश लगातार अपना घाटा कम करने की कोशिश कर रहा है. ग्रीस की सरकार को क़रीब 400 बिलियन अमरीकी डॉलर की कर्ज़ अदायगी करनी है.

Image caption तीन साल से ग्रीस मंदी की चपेट में है

लेकिन ग्रीस अब इस घाटे से छुटकारा पा सकता है क्योंकि दो मई को यूरोपियन संघ और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने उन्हें क़रीब 110 बिलियन अमरीकी डॉलर का पैकेज देने का वादा किया है.

लेकिन ये पैकेज कड़ी शर्तों के साथ दिया जा रहा है.

ग्रीस की सरकार को अपने सरकारी ख़र्चों में भारी कटौती करने के लिए कहा गया है ताकि सरकार की कमाई में सुधार आए और इसी ‘ख़र्चे कटौती’ कार्यक्रम की वजह से ट्रेड यूनियनें सड़क पर उतर आईं हैं.

संबंधित समाचार