इटली में पहला तलाक़ मेला

तलाक़

इटली मे एक चौथाई विवाह तलाक में परिणत होने लगे हैं

इटली के मिलान शहर में पहली बार एक तलाक़ मेले का आयोजन किया गया है.

कैथलिक परंपराओं को आदर्श मानने वाले इटली शहर में कुछ साल पहले तक तलाक़ के मामले कभी कभार ही देखने में आते थे.

लेकिन पिछले कुछ सालों में इटली में पारिवारिक स्थितियां काफ़ी बदली हैं.

ब्रिटन औऱ अमरीका के नक़्शे क़दम पर चलते हुए अब इटली में भी लगभग एक चौथाई विवाहों की परिणति तलाक़ में होने लगी है.

कभी ख़ुशग़वार रहे दांपत्य संबंध का अंत करना इटली के पारंपरिक समाज के लिए वैसे ही कोई आसान काम नहीं है, उस पर इटली में तलाक़ प्रक्रिया भी जटिल और लंबी है.

हम इटली के निवासी तलाक़ के आदि नहीं हैं. हमारे समाज में तलाक़ आज भी बेहद नकारात्मक माना जाता है.

फ्रांको ज़ेनेटी, तलाक़ मेले के आयोजक

इटली में तलाक़ की प्रक्रिया पूरी होने में तीन साल लगते हैं.

1970 के दशक के मध्य में आकर तलाक़ को वैधानिक बनाया गया था, लेकिन चर्च अब भी तलाक़ को समर्थन नहीं देता.

मिलान में शनिवार से शुरू हुए इस पहले तलाक़ मेले के आयोजक फ्रांको ज़ेनेटी कहते हैं, “हम इटली के निवासी तलाक़ के आदि नहीं हैं. हमारे समाज में तलाक़ आज भी बेहद नकारात्मक माना जाता है. इसीलिए हम तलाक़शुदा लोगों में आत्मविश्वास बहाल करना चाहते हैं जिससे वह एक नई ज़िंदगी शुरू सकें और अपनी ग़लतियों से आगे के लिए सबक ले सकें.”

फ्रांको ज़ेनेटी ने दो साल पहले ऑस्ट्रिया में लगे पहले तलाक़ मेले से प्रेरित होकर ये मेला लगाया.

फ्राको ज़ेनेटी का कहना है कि इस पहले तलाक़ मेले में कई मनोचिकित्सक, वकील, और विभिन्न रस्मों के आयोजक भी मौजूद रहेंगे.

इस मौक़े पर केक बनाने वाले भी पहुंचे हैं, जो तलाक़ की ख़ुशी मनाने वालों को अपनी सेवाएं दे सकेंगे.

इनके अलावा तलाक़शुदा लोगों को 'डेटिंग' एजेंसियों की कृपा से त्वरित प्रेम संबंध में बंधने के अवसर भी मिलेंगे.

तलाक़ की प्रक्रिया से गुज़र रहे या गुज़र चुके लोगों के टूटे मनोबल को जोड़ने के लिए 'स्पा थेरेपी' और कला 'थेरेपी' की भी व्यवस्था की गई है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.