जलवायु परिवर्तन पर अमरीकी सांसदों की पहल

जॉन कैरी

अमरीका के दो सीनेटरों ने जलवायु परिवर्तन पर एक विधेयक पेश किया है. इस विधेयक में अमरीका के कार्बन उत्सर्जन और तेल के आयात में कमी करने का प्रस्ताव है.

ये प्रस्ताव ओबामा के नजदीकी सीनेटर जॉन कैरी और जो लीबरमैन ने पेश किया है.

इस विधेयक को पेश करने वाले सीनेटर जॉन केरी ने बताया कि इस विधेयक में अमरीका का कार्बन उत्सर्जन में 17 फ़ीसदी की कमी करने का प्रस्ताव है.

उनका कहना था कि इसका मकसद अमरीका को दुनिया में स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में प्रमुख देश बनाना है.

ये प्रस्ताव राष्ट्रपति बराक ओबामा के घरेलू एजेंडे में प्रमुख है.

राष्ट्रपति ओबामा ने इस साल की शुरुआत में तेल उत्सर्जन के नियमों में ढील देने की योजना की घोषणा की थी. लेकिन हाल में समुद्र में तेल के रिसाव की घटना के बाद उन्हें इस पर फिर से विचार करना पड़ सकता है.

इस विधेयक में ये प्रावधान भी है कि जो प्रांत तेल निकालने की प्रक्रिया को जोखिम भरा मानेंगे, उन्हें इसको रोकने का अधिकार होगा.

यूरोपीय संघ ने इस विधेयक का स्वागत किया है.

गैस उत्सर्जन पर विवाद

उल्लेखनीय है कि पिछले साल कोपेनहेगन में अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में गैस उत्सर्जन पर कोई समझौता नहीं हो पाया था और इसको लेकर इसकी कड़ी आलोचना हुई थी.

कोपनहेगन में बाध्यकारी क़ानून वाले समझौते के मुद्दे पर कई विकासशील देशों को आपत्ति थी.

कोपनहेगन में विश्व के तापमान में हो रही बढ़ोत्तरी को दो डिग्री सेल्सियस से नीचे रखने की सहमति हुई थी लेकिन समझौता नहीं हो पाया था.

दरअसल विकसित देशों और विकासशील देशों में इस समझौते को लेकर मतभेद थे.

विकसित देश मौजूदा प्रारूप पर समझौता चाहते थे जबकि विकसित देश ऐसा नहीं चाहते थे.

संबंधित समाचार