समुद्री तूफ़ान से निबटने की तैयारी

नैनो प्लांट सानंद
Image caption बुधवार को नैनो की सानंद प्लांट के उद्घाटन के दौरान तेज़ हवाएं चलीं.

गुजरात समुद्री तूफ़ान फेट से निबटने के लिए कमर कस रहा है. राज्य के तटवर्ती इलाक़ों में बुधवार को भारी बारिश हुई है और तेज़ हवाएं चलीं.

ये चक्रवात अरब सागर में ओमान तक पहुंचा गया है. तूफ़ान के गुजरात के तट पर पहुंचने में अभी कुछ समय लगेगा लेकिन सरकारी विभाग पूरी तैयारी में जुटे हुए हैं.

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा है कि फेट कच्छ क्षेत्र में नलिया के दक्षिण पश्चिम से एक हज़ार किलोमीटर दूर समुद्र में केंद्रित है और वहां से ये पूर्वोतर की ओर मुड़कर गुजरात का रुख़ कर सकता है.

अहमदाबाद से वरिष्ठ पत्रकार उमेश उमठ ने बीबीसी को बताया है कि राज्य के तटीय इलाक़ों में सरकारी अधिकारियों को छुट्टियों पर जाने से मना कर दिया है. राज्य में कई सरकारी कार्यक्रम भी स्थगित कर दिए गए हैं.

तैयारियां

आपाताकालीन सेवाएं प्रदान करने वाले सरकारी विभागों के कर्मचारी इस चक्रवात का सामना करने के लिए तटीय क्षेत्रों में पहुंच रहे हैं.

Image caption मौसम विभाग के अनुसार चक्रवात ओमान से पूर्वोतर की ओर मुड़ गुजरात का रुख़ कर सकता है.

समाचार एजेंसियों के मुताबिक ‘नेशनल डिज़ास्टर रिपॉन्स फ़ोर्स’ के छह दल कच्छ, जामनगर, पोरबंदर, जूनागढ़ और राजकोट ज़िलों में पहुंच गए हैं.

अजय उमठ के अनुसार ये तूफ़ान राज्य के सौराष्ट्र कच्छ और उत्तर गुजरात के नौ ज़िलों को तीन से चार दिन तक प्रभावित कर सकता है.

बुधवार को राजधानी अहमदाबाद से 40 किलोमीटर दूर सानंद में टाटा मोटर्स की कार नैनो के प्लांट के उद्घाटन के दौरान भी तेज़ हवाएं चलीं जिसके चलते वहां मौजूद लोगों सुरक्षित स्थानों की ओर भागने लगे.

पाकिस्तान

उधर पाकिस्तान के सिंध प्रांत में भी फेट को लेकर तैयारियों ज़ोरों पर हैं. ये तूफ़ान से ओमान के तटीय क्षेत्र से पहले सिंध के तट पर पहुंचेगा इसलिए कराची में इससे निपटने की तैयारियां चल रहीं हैं.

Image caption कराची में पुलिस अधिकारी लोगों को तट से दूर रहने की सलाह देते हुए

सिंध से बीबीसी संवाददाता अली हसन ने कहा है कि फेट के कराची, ठट्टा और बदीन के इलाक़ों को प्रभावित करने का अनुमान है.

बदीन में बुधवार रात को प्रशासन ने पाकिस्तानी सेना के साथ तटीय इलाक़े के गांवों में लोगों को इस तूफ़ान के बारे में जानकारी दी.

अली हसन के मुताबिक बदीन और ठट्टा से समुद्र में गए कई मछुआरे अभी तक वापस नहीं लौटे हैं.

कराची में घोड़ों पर सवार पुलिस अधिकारी समुद्र तट पर घूम कर लोगों को चक्रवात के बारे में आगाह कर रहे हैं.

संबंधित समाचार