किर्गिस्तान में तीन लाख लोग विस्थापित

किर्गिस्तान

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी संस्था का कहना है कि किर्गिस्तान में हिंसा के बाद से पौने तीन लाख लोग विस्थापित हो चुके हैं.

संस्था के अनुसार इनमें दो लाख लोग किर्गिस्तान के भीतर विस्थापित हुए हैं जबकि 75 हज़ार लोग सीमा पार कर उज़्बेकिस्तान भाग गए हैं.

इस बीच किर्गिस्तान सरकार ने आधिकारिक तौर पर ब्रिटेन से पूर्व किर्गीज़ सरकार कुर्मानबेक बाकियेव के बेटे मैक्सिम बाकियेव को उन्हें सौंपने की माँग की है.

किर्गीज़ सरकार ने पिछले सप्ताह दक्षिणी किर्गिस्तान में भड़की हिंसा के लिए मैक्सिम बाकियेव को ज़िम्मेदार ठहराया है.

किर्गीज़ और उज़्बेक लोगों के बीच भड़की हिंसा में सैकड़ों लोग मारे गए हैं और बड़ी संख्या में लोग विस्थापित हो गए हैं.

समझा जाता है कि मैक्सिम बाकियेव एक निजी विमान में बैठकर ब्रिटेन चले गए हैं और वे वहाँ शरण लेने की कोशिश कर रहे हैं.

हालाँकि बाकियेव परिवार के लोगों ने हिंसा में किसी तरह का हाथ होने से इनकार किया है.

राहत सामग्री

Image caption हिंसा के लिए किर्गीज़ सरकार ने मैक्सिम बाकियेव को ज़िम्मेदार ठहराया है

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी संस्था उज़्बेकिस्तान में शरणार्थियों के बढ़ते संकट से निबटने के लिए हवाई जहाज़ से राहत सामग्रियाँ पहुँचा रही है.

साथ ही संस्था ने उम्मीद जताई है कि किर्गिस्तान में भी मदद लाई जा सकेगी.

किर्गिस्तान के भीतर राहतकर्मियों की संख्या बेहद कम है और वहाँ जो भी लोग हैं उनके अनुसार वहाँ की स्थिति बेहद चिंताजनक है.

अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस के अनुसार पिछले सप्ताह दक्षिणी किर्गिस्तान में कीर्गिज़ और जातीय उज़्बेक लोगों के बीच भड़की जातीय हिंसा में सैकड़ों लोग मारे गए हैं और वहाँ सड़कों पर लावारिस लाशें पड़ी हुई हैं.

वहाँ से राहतकर्मियों ने ख़बर दी है कि पानी की गंभीर कमी हो गई है और लोग सिंचाई के लिए बनाए गए गड्ढों में जमा पानी पीने पर मजबूर हैं.

मैक्सिम बाकियेव

किर्गिस्तान की अंतरिम सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों ने पूर्व राष्ट्रपति कुर्मानबेक बाकियेव के बेटे पर दंगे भड़काने के लिए लाखों डॉलर ख़र्च करने का आरोप लगाया है.

किर्गीज़ सरकार अब मैक्सिम बाकियेव को ब्रिटेन से प्रत्यर्पित करवाकर उनके ख़िलाफ़ मुक़दमा चलाना चाहती है.

उनके पिता को अप्रैल में एक जनविद्रोह के बाद बेदखल कर दिया गया था.

कुर्मानबेक बाकियेव के कई रिश्तेदार उनकी सरकार में ऊँचे पदों पर थे.

उनके बेटे मैक्सिम बाकियेव निवेश और आर्थिक विकास मामलों के प्रभारी थे.

किर्गिस्तान की नई सरकार ने उनपर साढ़े तीन करोड़ डॉलर के ग़बन करने का आरोप लगाया हुआ है.

संबंधित समाचार