माँ-बच्चों के लिए पांच अरब डॉलर

Image caption कई संगठनों ने अपर्याप्त धन राशि उपलब्ध कराने के लिए जी-8 की आलोचना की है

धनी देशों के समूह जी-8 के नेता विकासशील देशों में माताओं और बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार संबंधी योजनाओं के लिए अतिरिक्त पाँच अरब डॉलर देने पर सहमत हुए हैं.

ये सहमति कनाडा में समूह के शिखर सम्मेलन के दौरान बनी. अतिरिक्त सहायता राशि अगले पाँच वर्षों के दौरान जारी की जाएगी.

इस तरह पाँच अरब डॉलर के इस अतिरिक्त कोष से संयुक्तराष्ट्र के सहस्राब्दि विकास लक्ष्यों में से एक को हासिल करने का प्रयास किया जाएगा.

उल्लेखनीय है कि सहस्राब्दी लक्ष्यों में माताओं और बच्चों की मौत में तीन चौथाई कमी का लक्ष्य भी शामिल है.

कनाडा के प्रधानमंत्री स्टीफ़न हार्पर ने जी-8 में बनी सहमित के बाद टोरंटो में कहा, "हम उस स्थिति को हासिल करने के लिए कटिबद्ध हैं जब गर्भावस्था या बच्चे को जन्म देने की प्रक्रिया में महिलाओं की मौत नहीं हो, उनमें अपंगता नहीं आए."

असंतुष्ट

लेकिन दुनिया के निर्धन लोगों के लिए आवाज़ उठाने वाले संगठन जी-8 की ताज़ा घोषणा से संतुष्ट नहीं हैं.

उनका कहना है कि समस्या जितनी विकराल है उसके अनुपात में धन राशि अपर्याप्त है.

माँ और बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए गेट्स फ़ाउंडेशन के योगदान समेत कुल 7.3 अरब डॉलर की राशि उपलब्ध कराई गई है.

विकासशील देशों में कल्याणकारी योजनाओं से जुड़े ग़ैरसरकारी संगठनों ने विकास सहायता बढ़ाने के वायदे को पूरा नहीं करने के लिए भी जी-8 की आलोचना की है.

संबंधित समाचार