लैला ओ लैला !

चक्रवात
Image caption दुनिया भर में पांच समितियां तूफ़ानों का नामकरण करती हैं

लैला. यह पढ़ते ही आपको लगा होगा कि मजनूं का ज़िक्र अब दूर नहीं.

तो शुरुआत में ही ये भी पढ़ लीजिए कि इस कहानी से मियां मजनूं नदारद रहेंगे.क्योंकि ये क़िस्सा क़ैस साहब का नहीं सिर्फ़ लहू की प्यासी 'लैला' का है.

ज़िंदगियाँ लीलने वाली 'लैला' की विनाशक शक्ति से दो चार होना हो तो आंध्र के तटीय इलाक़ों में जाइए जहां इस क़ातिल ने कई लोगों की जान ली और हज़ारों को अपने घर-गांव से उखाड़ फेंका.

और फिर लैला ही क्यूं, वो नर्गिस याद है ना? वो बर्मा में एक लाख से ज़्यादा का क़ातिल बन बदनाम हो गई. और फिर वो कैटरिना? उसके वेग ने अमरीका का एक भरा-पूरा शहर मलियामेट कर दिया.

दिलकश नाम

वो कौन लोग हैं जो इन जानलेवा हवाओं को दिलकश नाम देते हैं? ये लोग विश्व मौसम संघ और 'इकॉनॉमिक ऐंड सोशल कमीशन फ़ॉर एशिया ऐंड पेसिफ़िक' की 'टाइफ़ून समिति' के सदस्य होते हैं.

विश्व में ऐसी पांच समितियाँ हैं जो ट्रॉपिकल चक्रवातों की मॉनिटरिंग और उनकी दिशा का पूर्वानुमान लगाने के लिए अलावा इन तूफ़ानों को नाम भी देतीं हैं.

उत्तरी हिंद महासागर में आने वाले तूफ़ानों का नाम रखने के लिए भी ऐसी ही एक समिति है. इस समिति में भारत, पाकिस्तान, ओमान, श्रीलंका, बांग्लादेश, थाईलैंड, बर्मा और मालद्वीप हैं. हर देश बारी-बारी से इन चक्रवातों का नाम रखता है.

अब तक दिए गए नामों में लैला, तितली, बुलबुल, नर्गिस पाकिस्तान से, बिजली, लहर, सागर, अग्नि और वायु भारत से, रश्मि, सोबा, प्रिया, आसिरी श्रीलंका से, निशा, गिरी, हेलेन और चपला नाम बांग्लादेश से आए हैं.

लैला या नर्गिस की बजाय वो इन तूफ़ानों को ताड़का या शूर्पणखा कहें तो क्या हर्ज़ है?

लेकिन इन्हें अधिकतर स्त्रीलिंग नाम ही क्यों सूझते हैं? बच्चन साहब ने ये तो कहा है कि 'मर्द को दर्द नहीं होता' लेकिन ये तो नहीं कहा ना कि मर्द बेदर्द नहीं हो सकते?

ऐसा नहीं कि पुल्लिंग नाम ना हों लेकिन ज़्यादातर लैला, कैटरिना, नर्गिस, जुलिएट, विलमा, ग्लोरिया, जेनेट ही क्यों?

भारतीय मौसम विभाग की वेबसाइट कहती है कि अगर आप इन तूफ़ानों को कोई नाम देना चाहते हैं तो विभाग के दिल्ली के पते पर अपने सुझाव भेज सकते हैं. शर्त है कि आपका सुझाया नाम छोटा और आसान हो ताकि प्रसारण के समय इसे सभी समझ पाएँ.

अगर आपको इन तूफ़ानों का नाम देने का मौक़ा मिले तो आप इन्हें कैसे नाम देंगे? भयंकर या दिलकश, स्त्रीलिंग या पुल्लिंग?

संबंधित समाचार