नेपाल के प्रधानमंत्री ने दिया इस्तीफ़ा

माधव कुमार नेपाल
Image caption विपक्षी दल माधव कुमार नेपाल पर इस्तीफ़ा देने के लिए लगातार दबाव बना रहे थे

नेपाल के प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल ने बुधवार शाम अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

प्रधानमंत्री नेपाल ने इस्तीफ़े की घोषणा एक संवाददाता सम्मेलन में की. उनके इस्तीफ़े से अब उम्मीद जताई जा रही है कि नेपाल में पिछले कई महीनों से चल रहा राजनीतिक संकट ख़त्म हो जाएगा.

पिछले महीने नेपाल के तीनों मुख्य राजनीतिक दल सत्ताधारी नेपाली कांग्रेस, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ नेपाल और विपक्षी माओवादियों के बीच हुए समझौते के तहत प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल को अपने पद से इस्तीफ़ा देना था. माओवादी इसके लिए उनपर दबाव बनाए हुए थे.

इस साल मई में नेपाल में पैदा हुए संवैधानिक संकट को टालने के लिए तीनों बड़ी पार्टियों ने संसद का कार्यकाल एक साल तक बढ़ाने पर समझैता किया था.

इसके मुताबिक प्रधानमंत्री माधव कुमार नेपाल इस्तीफ़ा देने को राज़ी हो गए थे लेकिन इस बात को लेकर विवाद था कि वे इस्तीफ़ा कब देंगे.

माओवादियों की माँग थी कि प्रधानमंत्री तत्काल इस्तीफ़ा दें जबकि नेपाल का कहना था कि इस्तीफ़े के समय को लेकर कुछ तय नहीं हुआ था.

दस साल तक सरकार और माओवादियों के बीच चली हिंसा की समाप्ति के बाद 2008 में संविधान सभा का गठन किया गया था. इसका मुख्य उद्देश्य दो साल के अंदर देश का नया संविधान लिखना था.

इसकी मियाद मई में ख़त्म हो गई थी लेकिन संविधान लिखने का काम पूरा नहीं हुआ था. इसके बाद पैदा हुए संवैधानिक संकट को ख़त्म करने के लिए तीनों दलों के बीच समझौता हुआ था.

संबंधित समाचार