तेल रिसाव रोकने के लिए नया प्रयास

Image caption तेल का रिसाव रोकने और सतह से तेल हटाने के लिए कई स्तर पर प्रयास हो रहे हैं

ब्रिटिश तेल कंपनी बीपी मैक्सिको की खाड़ी में हो रहे तेल रिसाव को रोकने के लिए नए सिरे से प्रयास कर रही है.

इसके लिए शनिवार को तेल कुँए के मुहाने पर एक नई कुप्पी लगाई जाएगी और उसकी मदद से तेल को बाहर निकाला जाएगा.

इस अभियान की देखरेख कर रहे अमरीकी कोस्ट गार्ड अधिकारी ने उम्मीद जताई है कि सोमवार से तेल का रिसाव पूरी तरह से रुक जाएगा.

लेकिन जब यह नई कुप्पी लगाई जाएगी उस दौरान एक बार फिर कुँए से निकल रहा तेल समुद्र में फैलता रहेगा.

इस बीच बीपी की साझेदार कंपनियों में से एक एनाडार्को ने तेल रिसाव से निपटने के लिए आने वाले खर्च को साझा करने से इनकार कर दिया है.

अप्रैल में हुए एक विस्फोट के बाद से मैक्सिको की खाड़ी में तेल के इस कुँए से तेल लगातार रिस रहा है और यह अमरीका के तटीय इलाक़ों तक पहुँच गया है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इसे अमरीकी इतिहास की सबसे बड़ी पर्यावरणीय त्रासदी की संज्ञा देते हुए बीपी से कहा है कि वह लोगों को हुए नुक़सान की पूरी भरपाई करे.

बीपी ने लोगों को मुआवज़ा देना शुरु कर दिया है.

नया प्रयास

अधिकारियों के अनुसार शनिवार को पानी के भीतर काम करने वाले रोबोट इस समय तेल कुँए पर लगी कुप्पी को हटाना शुरु कर देंगे.

इसके बाद वहाँ एक नई कुप्पी लगाई जाएगी.

इस कुप्पी के लगाए जाने के बाद तेल को बाहर निकालना शुरु कर दिया जाएगा.

तेल रिसाव को रोकने के इस काम की देखरेख कर रहे अमरीकी कोस्ट गार्ड अधिकारी एडमिरल थैड एलन ने कहा है, "तेल का रिसाव सोमवार से बंद हो सकता है."

नई कुप्पी को लगाने में दो दिनों का समय लग सकता है.

इस समय जो कुप्पी लगी हुई है उससे रिस रहे तेल की आधी मात्रा ही रुक पा रही है और शेष आधा समुद्र में ही बह रहा है.

जिस दौरान पुरानी कुप्पी को हटाया जाएगा और नई कुप्पी लगाई जाएगी, तेल पूरी रफ़्तार से एक बार फिर समुद्र में फैलता रहेगा.

वॉशिंगटन में बीबीसी संवाददाता मैडलिन मॉरिस का कहना है कि इस दौरान सैकड़ों बैरल तेल एक बार फिर समुद्र में बहता रहेगा, जहाँ पहले से ही तेल की भारी मात्रा मौजूद है.

साझीदार का इनकार

Image caption तेल से हो रही क्षति की भरपाई तेल कंपनी को करनी है

इस तेल कुँए में बीपी की साझेदार कंपनियों में से एक ने तेल रिसाव की वजह से अब तक हुए खर्च को साझा करने से इनकार कर दिया है.

इस कुँए में 25 प्रतिशत की भागीदार एनाडार्को से बीपी से 27.2 करोड़ डॉलर देने को कहा था लेकिन एनाडार्को के प्रवक्ता ने कहा है कि फ़िलहाल वह यह पैसा नहीं दे रही है.

एनाकार्डों के अधिकारियों ने बीपी पर ग़ैरज़िम्मेदार रवैए का आरोप लगाते हुए कहा है कि उसने कई चेतावनियों को अनदेखा कर दिया.

एक और साझेदार कंपनी मित्सुई ऑइल एक्लप्लोरेशन ने भी खर्च में भागीदारी के बीपी के अनुरोध का कोई जवाब नहीं दिया है.

अपने साझीदारों के इस रवैए पर बीपी ने निराशा जताई है और कहा है कि इससे तेल का रिसाव रोकने के प्रयासों पर कोई फ़र्क नहीं पड़ेगा.

तेल का रिसाव रोकने में अब तक बीपी 3.1 अरब डॉलर ख़र्च कर चुकी है.

कंपनी ने इस पर होने वाले खर्च के लिए 20 अरब डॉलर का एक कोष स्थापित करने की हामी पहले ही भर ली थी.

संबंधित समाचार