ब्रिटिश अख़बारों ने माँगी माफ़ी

परमेश्वरम सुब्रह्मण्यम
Image caption अख़बारों ने परमेश्वरम सुब्रह्मण्यम पर भूख हड़ताल के समय बर्गर खाने का आरोप लगाया था.

एक शरणार्थी तमिल आंदोलनकारी ने दो अख़बारों से 77,500 पाउंड का हर्जाना स्वीकार किया है.

ब्रिटेन के इन दो अख़बारों ने यह ख़बर प्रकाशित की थी कि इस शरणार्थी ने अपनी भूख हड़ताल के दौरान बर्गर खाया था.

मामले की सुनवाई के दौरान हाई कोर्ट ने कहा कि 'द डेली मेल' और 'द सन' अख़बार में प्रकाशित लेखों से परमेश्वरम सुब्रह्मण्यम की ईमानदारी और उपलब्धियों को नुक़सान पहुँचा.

तमिलों की समस्या

श्रीलंकाई तमिलों के पलायन की समस्या को लोगों के सामने लाने के लिए परमेश्वरन ने हाउस ऑफ़ पार्लियामेंट के बाहर सात अप्रैल 2009 से भूख हड़ताल शुरू की थी जो 23 दिन तक चली थी.

अपनी ख़बरों के लिए दोनों अख़बारों में माफ़ी माँगी है.

भूख हड़ताल ख़त्म होने के बाद पाँच दिन तक परमेश्वरम सुब्रह्मण्यम का अस्पताल में इलाज हुआ था.

इसके छह महीने बाद 'द डेली मेल' और 'द सन' ने ख़बर प्रकाशित की कि निगरानी करने वाले विशेष उपकरणों ने सुब्रह्मण्यम को मैक डोनाल्ड का बर्गर खाते हुए पकड़ा था. अख़बारों ने पुलिस पर जनता के धन को बरबाद करने का आरोप लगाया था.

सुब्रह्मण्यम के वकील मैगनस ब्यॉड ने कहा, ''जज इडे ने कहा कि आरोप पूरी तरह निराधार थे, इस बात को अख़बारों ने भी स्वीकार किया है.''

मेट्रोपोलिटिन पुलिस अधीक्षक जो पार्लियामेंट चौराहे पर पुलिस ऑपरेशन के प्रभारी थे, उन्होंने इस बात की पुष्टि की है कि वहाँ कोई भी टीम निगरानी रखने वाले विशेष उपकरणों का उपयोग नहीं कर रही थी और इसका कोई वीडियो भी उपलब्ध नहीं है.

तनाव भरे दिन

न्यूज ग्रुप न्यूजपेपर और एसोसिएटेड न्यूजपेपर की वकील विक्टोरिया जोलिफ़ी ने कहा कि सभी आरोपों को वापस ले लिए गए हैं और इससे सुब्रह्मण्यम की छवि को जो नुक़सान पहुँची है उसके लिए माफ़ी मांगी है.

इसके लिए वे सुब्रह्मण्यम को हर्जाने का भुगतान करने पर सहमत हो गए हैं.

उधर, सुब्रह्मण्यम ने कहा कि पिछले आठ महीने उनके जीवन के काफी तनाव भरे दिन थे. इस दौरान उनके मन में आत्महत्या का भी विचार आया.

उन्होंने कहा, ''अखबारों में मेरे बारे में प्रकाशित इस झूठ की वजह से, जिसमें मेरी कोई ग़लती नहीं थी, मैंने अपने दोस्तों को खो दिया, परिवार ने किनारा कर लिया और तमिल समुदाय ने पूरी तरह से मेरा बहिष्कार कर दिया.''

संबंधित समाचार