बाढ़ में एक हज़ार से ज्यादा लोगों की मौत

Image caption बाढ़ से जलमग्न पाकिस्तान का एक शहर

पाकिस्तान के उत्तर-पश्चिम इलाके में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 1000 से ज्यादा हो गई है.

लगभग 30 हजार सेना के जवान राहत पहुंचाने के प्रयास में लगे हैं, उत्तर-पश्चिम का अधिकांश इलाका मानसून की भारी बारिश से जलमग्न हो गया है.

अगले 24 घंटे में भारी बारिश की आशंका ने लोगों को भयभीत कर दिया है, कुछ इलाकों को आगे खतरों का सामना करना पड़ सकता है.

उत्तर-दक्षिण के मुख्य सड़क मार्ग को आंशिक रूप से फिर से खोला गया है, जिससे फंसे लोगों तक शीघ्र सहायता पहुंचाई जा सके.

इस्लामाबाद में बीबीसी के अलीम मक़बूल ने कहा कि अधिकारियों को डर है कि जब प्रभावित इलाके में रास्ता खुलेगा तब पूरी स्थिति दिखेगी कि वह कितनी भयावह है.

खैबर-पख्तूनख्वा आपदा प्रबंधन के प्रांतीय प्रवक्ता ने कहा, "बाढ़ की विभीषिका के आकलन के लिए हवाई सर्वेक्षण किया गया था."

प्रवक्ता लतीफ़ूर रहमान ने कहा, "इस हवाई सर्वेक्षण में दिखा कि सभी गांव और अनाज के गोदाम खत्म हो गए है और मवेशी डूब गए है. विनाश बड़े पैमाने पर हुआ है."

सभी पुल डूबे

पाकिस्तान सरकार ने कहा है कि प्रभावित इलाके से शनिवार की रात को सेना ने 19,000 लोगों को निकाला है लेकिन हजारों लोग वहां फंसे है और असहाय है.

इदी फाउंडेशन के मुज़ाहिद खान के अनुसार मृतकों में आधे से अधिक स्वात और सांगला जिले के थे.

रिपोर्ट के अनुसार बाढ़ का पानी कई इलाकों में अभी जमा है लेकिन अधिकारियों को डर है कि कहीं फिर बारिश से राहत कार्य न प्रभावित हो. मौसम विभाग की भविष्यवाणी के अनुसार अगले 24 घंटे में फिर मानसून आएगा और भारी बारिश होगी.

अधिकारियों को चिंता है कि भारी बारिश से बाढ़ का पानी दक्षिण में सिंध प्रांत तक न पहुंच जाएं.

यातायात या संपर्क के सारे रास्ते कटने के बाद सेना और राहत कर्मचारी हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल कर रहे हैं ताकि प्रभावितों को राहत व अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति करायी जा सके.

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल अथर अब्बास ने कहा, "वस्तुतः स्वात में सभी पुल या तो डूब गए हैं या सभी छोटे-बड़े व मुख्य पुल पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए है."

रहमान कहते हैं, "सेना को 43 हेलीकॉप्टर और 100 नाव के साथ तैनात किया गया है कि वे बाढ़ में फंसे लोगों को निकाल सकें."

पाकिस्तान के आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के चेयरमैन जनरल नदीम अहमद ने कहा, "यह आवश्यक हो गया कि हेलीकाप्टर से लोगों को वहां से दूसरी जगह ले जाया जाएं तथा आवश्यक वस्तुओं को उन तक पहुंचाया जाए. संयुक्त राष्ट्र ने बाढ़ पीड़ितों के लिए खाद्य सामग्री, पानी, और दवाइयों की सहायता की है."

इस्लामाबाद में स्थित अमरीकी दूतावास ने कहा, "बाढ़ से प्रभावित कुछ इलाकों के लिए 12 अस्थाई पुल उपलब्ध कराए गए है."

पाकिस्तान के चार प्रांत बाढ़ से प्रभावित है और यहां अब तक एक हजार से ज्यादा लोग मारे गए हैं, पाक-अफ़गान सीमा क्षेत्र में ही 60 लोग मारे गए है.

संबंधित समाचार