सऊदी अरब ने लगाई ब्लैकबेरी पर रोक

सऊदी अरब में ब्लैकबेरी पर रोक
Image caption सऊदी अरब ने भी ब्लैकबेरी पर रोक लगाने का फ़ैसला किया है.

सऊदी अरब ने देश में ब्लैकबेरी मोबाइल सेवाएं शुक्रवार छह अगस्त से रोकने का आदेश दे दिया है. ये रोक तब तक रहेगी जब तक ब्लैकबेरी के निर्माता लोकल लाइसेंस की शर्तों पर खरे नहीं उतरते.

संयुक्त अरब अमीरात ने भी 11 अक्तूबर से रोक लगाने की चेतावनी दी है.

संयुक्त अरब अमीरात ने ब्लैकबेरी से राष्ठ्रीय सुरक्षा पर ख़तरे की आशंका जताई है क्योंकि वे ब्लैकबेरी से भेजे गए इंक्रिप्टेड डाटा जैसे मेसेज और ई-मेल पर निगरानी नहीं रख पा रहे हैं.

संयुक्त अरब अमीरात को चिंता है कि इसकी वजह से बहुत सारे आंकड़े विदेशी संगठनों के पास तुरंत चले जाते हैं जिसका वे अपनी सुविधा के अनुसार इस्तेमाल करते हैं.

संयुक्त अरब अमीरात की दूरसंचार नियामक संस्था का कहना है कि ये ब्लैकबेरी उपकरण राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए ख़तरा बन सकते हैं.

इसी तरह पिछले साल सरकारी टेलीकॉम कंपनी की ओर से ब्लैकबेरी के हैंडसेट में स्पाईवेयर यानि जासूसी करने वाला सॉफ़्टवेयर डालने का कथित प्रयास किया गया था.

संयुक्त अरब अमीरात में लगभग पांच लाख लोग ब्लैकबेरी इस्तेमाल करते हैं.

सरकारी समाचार एजेंसी ने संयुक्त अरब अमीरात सरकार के बयान के हवाले से पहले कहा था, "जब तक स्थानीय क़ानून के मुताबिक उसका हल न निकाल लिया जाए तब तक ब्लैकबेरी की कुछ सेवाओं को 11 अक्टूबर से बंद किया जाएगा."

भारत ने भी ब्लैकबेरी डेटा सर्विस को लेकर सुरक्षा संबंधी चिंताएं जताईं हैं कि कहीं वे चरमपंथियों के हाथों में न पड़ जाए.

संबंधित समाचार