श्रीलंका: गृह युद्ध पर आयोग की पहली बैठक

श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे
Image caption श्रीलंका गृह युद्ध की अंतरराष्ट्रीय जांच को ख़ारिज करता रहा है

श्रीलंका में हुए गृह युद्ध की जांच के लिए बना आठ सदस्यों का जांच आयोग बुधवार को अपनी पहली सार्वजनिक बैठक कर रहा है.

इस आयोग का गठन श्रीलंका सरकार ने किया है और इसका नाम है - 'कमिशन ऑन लेसन्स लर्न्ड ऐंड रिकॉनसिलिएशन.'

मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि पिछले साल ख़त्म हुए गृह युद्ध में दोनों ही पक्षों यानि श्रीलंकाई सेना और तमिल विद्रोहियों ने युद्ध अपराध किए थे.

यहाँ तक कि सयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने श्रीलंका में कथित मानवाधिकार हनन मामलों का अध्ययन करने के लिए एक सलाहकारी पैनल की घोषणा की थी.

लेकिन श्रीलंका की सरकार ने इस पर आपत्ति जताई थी और सरकार को समर्थन देने वाले कुछ नेताओं ने इसके ख़िलाफ़ प्रदर्शन और हड़ताल भी की थी.

सरकार गृह युद्ध की जांच के लिए किसी अंतरराष्ट्रीय पड़ताल की ज़रुरत को भी नकारती रही है और कहती रही है कि सेना ने कोई युद्ध अपराध नहीं किए हैं.

Image caption एक वीडियो में ये दावा किया गया कि सेना ने तमिल विद्रोहियों को यातनाएँ दीं

अब सरकार का कहना है कि आठ सदस्यों के जांच आयोग से उसकी बात सिद्ध हो जाएगी.

युद्ध के बाद श्रीलंका

श्रीलंका और पश्चिमी देशों के बीच आमतौर पर संबंध दोस्ताना रहे हैं लेकिन गृह युद्ध के अंतिम महीनों में श्रीलंका के व्यवहार पर वॉशिंगटन और लंदन में काफ़ी असहजता देखने को मिली थी.

‘द इंटरनेशनल क्राइसिस ग्रुप’ नाम की संस्था का आरोप है कि श्रीलंकाई सेना ने तमिल टाइगरों के ख़िलाफ़ जंग के अंतिम दौर में हज़ारों तमिल नागरिकों को मार दिया होगा.

श्रीलंका इन आरोपों को सिरे से ख़ारिज करता रहा है. सरकार गृह युद्ध की जांच के लिए किसी अंतरराष्ट्रीय पड़ताल की ज़रुरत को भी नकारती रही है.

अंतरराष्ट्रीय जांच की जगह श्रीलंका ने कमिशन ऑन लैसन्स लर्न्ड ऐंड रिकॉनसिलिएशन का गठन किया है जो बुधवार से सुनवाई शुरु कर रहा है.

ये आयोग आम लोगों को सुनवाई के लिए बुला रहा है लेकिन ऐसी भी ख़बरें हैं कि पहले श्रीलंकाई अधिकारी, कूटनितिज्ञ और बुद्धिजीव भी इस आयोग के सामने पेश हो सकते हैं.

सरकार का कहना है कि इस आयोग की प्रेरणा उसे आंशिक रूप से दक्षिण अफ़्रीका के ‘ट्रूथ ऐंड रिकॉनसिलिएशन’ आयोग से मिली है.

संबंधित समाचार