पाकिस्तान ने भारत की मदद स्वीकार की

शाह महमूद क़ुरैशी
Image caption पहले पाकिस्तान ने कहा था कि वह मदद स्वीकार करने पर विचार करेगा

पाकिस्तान ने बाढ़ पीड़ितों के लिए भेजी गई भारत की आर्थिक सहायता स्वीकार करने का फ़ैसला किया है.

न्यूयॉर्क में पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने इस बारे में बीबीसी हिंदी से बात करते हुए भारत सरकार की तारीफ़ की और कहा, “पाकिस्तान ने उसूली तौर पर भारत की मदद की पेशकश को क़बूल करने का फ़ैसला कर लिया है. अब उसके बारे में जो कागज़ी कार्रवाई है वह अभी करना बाक़ी है.”

गुरूवार को ही भारतीय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पाकिस्तानी प्रधान मंत्री युसुफ़ रज़ा गिलानी से फ़ोन पर बातकर मदद की पेशकश दोहराई थी.उसी के बाद पाकिस्तानी सरकार ने भारत की मदद स्वीकार करने का फ़ैसला किया.

करीब एक हफ़्ते पहले भारत सरकार ने पाकिस्तान के लिए 50 लाख डॉलर की रकम बतौर मदद देने की पेशकश की थी जिसके जवाब में पाकिस्तानी सरकार ने भारत का शुक्रिया तो अदा किया था लेकिन इस मदद को स्वीकार करने पर सोच विचार करने की बात कही थी.

भारत में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विष्णु प्रकाश ने कहा है कि भारत पाकिस्तान के इस फ़ैसले का स्वागत करता है कि उसने मदद स्वीकार कर ली है.

अमरीका ने स्वागत किया

अमरीका ने भारत के पाकिस्तान को आर्थिक सहायता देने की पेशकश का स्वागत करते हुए कहा है कि भारत की ओर से उठाया गया यह बहुत अच्छा क़दम है.

पाकिस्तान और अफ़गानिस्तान के लिए अमरीका के विशेष दूत रिचर्ड हॉलब्रुक ने कहा, “भारत की की पेशकश से मैं बहुत खुश हूं. यह एक अच्छा कदम है.”

पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए आर्थिक सहायता जुटाने के लिए होने वाले विशेष अधिवेशन में भाग लेने पहुंचे थे.

कुरैशी ने बैठक पर संतोष जताते हुए कहा, “संयुक्त राष्ट्र में आज की कामयाब बैठक के बाद मुझे और भरोसा हो गया है कि अब 46 करोड़ डॉलर से भी ज़्यादा इकट्ठा हो जाएगा. अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मदद का अब एक सिलसिला सा चल पड़ेगा.”

इस सम्मेलन में अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन और पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पुरज़ोर अपील की है कि इस त्रासदी से निपटने के लिए पाकिस्तान की मदद करें.

संबंधित समाचार