'फ़लस्तीनी नेता दुनिया से कूच कर जाएँ'

Image caption रब्बी इसराइल की संयुक्त सरकार में शामिल दल के धर्मगुरु हैं

अमरीकी सरकार ने एक प्रभावशाली इसराइली धर्म गुरु 'रब्बी'के उस बयान की निंदा की है जिसमें उन्होंने कहा कि खुदा करे फ़लस्तीनियों के नेता महमूद अब्बास किसी महामारी से ग्रस्त हो जाएं.

वो यहाँ तक ही नहीं रुके और कहा कि वो चाहते हैं कि फ़लस्तीनी नेता अब्बास दुनिया से कूच कर जाएँ.

ये रब्बी ओवडिया योसेफ़ कोई आम शख्स नहीं हैं, वे इसराइल की गठबंधन सरकार में शामिल दल के धर्मगुरु हैं.

इस पर अमरीकी की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई है और अमरीकी विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि ऐसे उत्तेजक बयानों से मध्य पूर्व शांति अभियान पर प्रतिकूल असर पड़ेगा.

मामले की गंभीरता को देखते हुए इसराइली प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने इस बयान से ख़ुद को अलग कर लिया है.

दरअसल अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने इसराइल-फ़लस्तीन संघर्ष को सुलझाने का वादा किया था.

ग़ौरतलब है कि इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच गुरुवार से सीधी बातचीत शुरू होने वाली है.

इसमें इसराइली प्रधानमंत्री और महमूद अब्बास दो साल बाद पहली बार मिल रहे हैं.

इस बातचीत में क़ब्ज़े वाले इलाक़ों में यहूदी बस्तियों का निर्माण, यरुशलम का दर्जा, भावी फ़लस्तीनी राष्ट्र की सीमाएं जैसे मुद्दे शामिल हैं.

इसराइल की सरकार ने स्पष्ट किया है कि रब्बी के विचार इसराइल के विचारों को नहीं दर्शाते हैं लेकिन महमूद अब्बास ने चेतावनी दी है कि यदि इसराइल ने पश्चिमी तट पर निर्माण कार्य जारी रखा तो वे शांति वार्ता में शामिल नहीं होंगे.

संबंधित समाचार