'धार्मिक सहिष्णुता पर टिका रहे अमरीका'

बराक ओबामा
Image caption अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया है.

अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि अमरीका को धार्मिक सहिष्णुता के आदर्शों पर टिके रहना चाहिए.

अमरीका पर ग्यारह सितंबर को हुए हमले की बरसी से एक दिन पहले पत्रकारों से बात करते हुए राष्ट्रपति ओबामा ने कहा कि धार्मिक ग्रंथों को जलाना उन सिद्धांतों के ख़िलाफ़ है जिनकी बुनियाद पर अमरीका खड़ा है.

ग़ौरतलब है कि फ्लोरिडा के एक चर्च के पादरी ने 9/11 की बरसी पर कुरान की प्रतियां जलाने की घोषणा की थी.

अमरीका सहित दुनियाभर में इस घोषणा को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया हुई, जिसके बाद पादरी ने अपनी फ़ैसले को कुछ समय के लिए 'स्थगित' कर दिया है.

ओबामा ने कहा कि अमरीका को दूसरे धर्मों के प्रति सम्मान बरकरार रखना चाहिए.

ओबामा ने कहा कि 9/11 को अमरीका पर हुए हमले की बरसी इन मूल्यों को एक बार फिर याद करने का मौका है और इस दिन ऐसा कोई कदम न उठाया जाए.

ओबामा ने अपने भाषण में ज़्यादा वक्त आर्थिक मंदी को दिया और कहा कि अमरीका के लिए आर्थिक मंदी के दौर से निकलने की गति बहुत धीमी रही है और वो इससे उबरने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

अमरीका में नवंबर के महीने में मध्यावधि चुनाव होने वाले हैं. इन चुनावों के दौरान बढ़ती बेरोज़गारी और आर्थिक मंदी एक बड़ा मुद्दा है.

पिछले एक हफ़्ते के दौरान ओबामा ने तीसरी बार आर्थिक मंदी को लेकर बयान जारी किया हैं.

संबंधित समाचार