'भागो, भागो, बिल्ली आई'

तोता
Image caption लॉरेंज़ो को पकड़ने से सारी गुत्थी सुलझ गई

"भागो, भागो बिल्ली आई" का नारा लगाने वाला तोता पकड़ में आया और साथ ही मादक दवाइयों की तस्करी करने वाला गिरोह भी.

एल हेराल्डो अख़बार में छपी एक ख़बर के मुताबिक कोलंबिया के शहर बारानकिला में पुलिस अरसे से इस गिरोह की तलाश में थी.

उन्हें क्या पता था कि उनका साथी लॉरेंज़ो नाम का एक तोता भी है जो पुलिस की झलक पाते ही गिरोह के सदस्यों को आगाह कर देता है.

उसका कोड होता था, "भागो, भागो बिल्ली आई", और गिरोह के सदस्य चौकन्ने हो जाते थे.

तोते को जब 'हिरासत' में लिया गया तो पुलिस की कार में वह पूरे समय यही शब्द दोहराता रहा और उसने पुलिस वालों की नाक में दम कर दिया.

गिरोह की गिरफ़्तारी के बाद जब लॉरेंज़ो को प्रेस के सामने लाया गया तो एक हंगामे का माहौल बन गया.

प्रशिक्षित तोता

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी फ़्रेडी वेलोज़ा का कहना है कि तोते को पूरा प्रशिक्षण दिया गया था ताकि वह गिरोह के लोगों को पुलिस के हाथ आने से बचा सके.

इस मुठभेड़ में चार व्यक्ति पकड़े गए और उनके पास से 200 से ज़्यादा हथियार बरामद किए गए.

तोते को अब पर्यावरणवादियों के हवाले कर दिया जाएगा और वही तय करेंगे कि उसका क्या करना है.

यह पहली बार नहीं है कि अपराध के दौरान जानवरों का इस्तेमाल हुआ हो.

अगस्त में इटली के मिलान शहर में पुलिस ने तस्करों के एक गिरोह को पकड़ा था जो नशीली दवाइयों की सुरक्षा के लिए अजगर का इस्तेमाल करते थे.

तीन फ़ुट लंबे इस अजगर को हटाने के लिए विशेष उपकरणों का इस्तेमाल करना पड़ा.

अपराधियों पर मादक दवाइयों की तस्करी का आरोप तो लगा ही साथ ही वे विलुप्तप्राय जीव को ग़ैरक़ानूनी ढंग से अपने पास रखने के भी दोषी ठहराए गए.

संबंधित समाचार