चावेज़ जीते लेकिन विपक्ष मज़बूत हुआ

समर्थक
Image caption जीत की ख़ुशियां मनाते राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज़ के समर्थक

वेनेज़ुएला में रविवार को हुए संसदीय चुनाव में राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज़ की यूनाइटिड सोशलिस्ट पार्टी या पीएसयूवी को बहुमत मिल गया है.

लेकिन विपक्षी दलों का प्रदर्शन भी अच्छा रहा जिसके कारण चावेज़ की पार्टी का दो तिहाई बहुमत ख़त्म हो जाएगा.

अब सरकार बिना विपक्षी दलों की मदद के विधेयक पारित नहीं कर पाएगी.

इस चुनाव को राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज़ की लोकप्रियता की परीक्षा के रूप में देखा जा रहा था क्योंकि 2012 में राष्ट्रपति पद के चुनाव होने हैं.

विपक्ष के एक प्रवक्ता ने कहा कि वो चुनाव परिणामों से ‘बहुत प्रसन्न’ हैं.

विपक्षी दलों के इस संगठन जिसे टेबुल फ़ॉर डेमोक्रैटिक यूनिटी या एमयूडी कहते हैं अब संसद में एक महत्वपूर्ण ब्लॉक बन जाएगा.

अब वह श्री चावेज़ के प्रमुख समाजवादी सुधारों को रोकने में सफल हों सकेंगे.

इसका मतलब ये हुआ कि राष्ट्रपति चावेज़ को विपक्षी सांसदों के साथ मिलकर काम करना होगा.

विपक्षी दलों की सफलता

विपक्षी दलों ने 2005 के चुनाव का बॉयकॉट किया था जिसकी वजह से श्री चावेज़ की पार्टी को संसद में लगभग सारी सीटें मिल गई थीं.

Image caption वेनेज़ुएला के चुनाव में विपक्ष को काफ़ी बढ़त मिली है

चुनाव अधिकारियों ने घोषणा की है कि 165 सीटों वाली नेशनल एसेम्बली में श्री चावेज़ की पार्टी पीएसयूवी को कम से कम 90 सीटें मिली हैं जबकि एमयूडी को 59 सीटें.

पीएसयूवी के दो तिहाई बहुमत को पलटने के लिए विपक्ष को 55 सीटों की ज़रूरत थी.

एक अन्य विपक्षी दल को दो सीटें मिली हैं और अभी 14 सीटों के परिणाम आने बाक़ी हैं.

एमयूडी के एक प्रवक्ता अरमांडो ब्रिकेट ने रॉएटर समाचार एजेंसी से कहा, "इस परिणाम से हमारी राजनीतिक शक्ति बहुत बढ़ गई है और हम बहुत ख़ुश हैं".

लेकिन राष्ट्रपति ह्यूगो चावेज़ ने चुनाव परिणाम को जनता की जीत बताया और सबको बधाई दी.

अपराध और महंगाई

वेनेज़ुएला की स्वचालित मतदान प्रणाली के बावजूद चुनाव परिणाम मतदान के कई घंटे बाद घोषित किए गए जबकि परिणाम बहुत जल्दी पता चल जाते हैं.

चुनाव अधिकारियों का कहना है कि विलम्ब इसलिए हुआ क्योंकि कई सीटों पर कांटे की टक्कर चल रही थी.

विपक्ष ने बढ़ते अपराध और बढ़ती महंगाई को अपने चुनाव अभियान का केंद्र बनाया था.

विपक्ष को मिली सफलता के बाद वो संसद में एक महत्वपूर्ण ताक़त बन सकेगा.

हालांकि नई संसद अगले साल जनवरी में जाकर बैठेगी और इस बीच राष्ट्रपति चावेज़ कुछ सुधारों को पारित कर सकते हैं.

संबंधित समाचार