'अर्थव्यवस्था बेहतर, लोकतंत्र कमजो़र'

अफ़्रीका
Image caption अफ्रीका में अर्थव्यवस्था में सुधार हुआ है लेकिन लोकतंत्र के क्षेत्र में अभी भी बहुत कुछ होना बाक़ी है.

अफ्रीका की सरकारों के कामकाज पर जारी एक सालाना सूचकांक में कहा गया है कि महादेश जहाँ आर्थिक क्षेत्र में बेहतरी की राह पर अग्रसर है वहीं लोकतांत्रिक व्यवस्था की बहाली के क्षेत्र में हाल में हासिल की गई उपलब्धियों को विपरीत परिस्तिथयों का सामना करना पड़ रहा है.

इस सूचकांक में अफ्रीका के 53 देशों के अंदर विभिन्न क्षेत्रों में मौजूद स्थितियों का आकलन किया जाता है.

इस सूचकांक के विषय बहुत व्यापक हैं जिसमें प्राथमिक स्कूलों में दाख़िले से लेकर लड़ाई में मारे गए आम नागरिकों की तादाद तक शामिल है.

चार सालों से लगातार जारी हो रही यह रिपोर्ट सुडान के उद्योगपति मो इब्राहीम की आर्थिक सहायता से तैयार की जाती है.

मानवाधिकार नदारद

ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक़ पिछले एक साल के दौरान अफ्रीका के 41 देशों में आर्थिक प्रगति हुई है और वहाँ वैश्विक मंदी का असर भी बहुत मामूली रहा है.

मो इब्राहीम कहते हैं कि पिछले एक वर्ष के दौरान अफ्रीकी देशों की अर्थव्यवस्था में तरक्की की दर यूरोप के मुक़ाबले चौगुनी रही लेकिन मानवधिकार, सुरक्षा और कानून व्यवस्था के क्षेत्र में स्थिति विपरीत है.

मो इब्राहीम का कहना था, "कुछ दिनों की ख़ामोशी के बाद अफ्रीका में तख़्तापलट की घटनाएँ फिर से होने लगी हैं. अपना कार्यकाल बढा़ने के लिए राष्ट्रपति संविधान से खिलवाड़ कर रहे हैं. हमें इन मुद्दों पर बहुत सावधान रहने की ज़रूरत है."

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि अफ्रीका के दो तिहाई देशों में मानवधिकार की स्थिति बिगड़ी है और 35 देशों में सुरक्षा कमज़ोर हुई है.

संबंधित समाचार