चेचन्या में अपहरण करने के बाद शादी

चेचन्या के राष्ट्रपति
Image caption चेचन्या के राष्ट्रपति ने महिलाओं के अपहरण पर कड़े दंड देने की बात कही है

इंटरनेट पर इस तरह की घटनाओं की वीडियो फुटेज देखी जा सकती हैं कि रूस में चेचन्या की गलियों में लेदर जैकेट पहने पुरुष महिलाओं का अपहरण करके कार में धकेल रहे हैं.

अपहरण के बाद इन महिलाओं को शादी करने के लिए बाध्य किया जाता है. दो परिवारों के बीच समझौता करवाने के लिए एक स्थानीय मौलवी को गवाह बनाया जाता है.

ज़ूली खान 22 साल की एक छात्रा हैं. जब वो कॉलेज से घर जा रहीं थीं, तभी एक अजनबी ने उनका अपहरण कर लिया. एक हफ़्ते बाद बोगडैन नाम के इस अपहरणकर्ता से उनकी शादी कर दी गई.

हालांकि चेचन्या के अधिकारियों का कहना है कि वे वहां पर महिलाओं का अपहरण करके शादी के लिए बाध्य किए जाने की घटनाओं को रोकने के लिए कड़े कदम उठा रहे हैं.

अधिकारियों ने घोषणा की है कि इस तरह की शादियों में मध्यस्थ बनने वाले इमाम को कड़े दंड दिए जाएंगे.

गैर इस्लामी

अभी पिछले हफ़्ते ही चेचन्या के राष्ट्रपति रमज़ान कादिरोव ने वहां के धार्मिक नेता मुफ़्ती सुल्तान मिर्ज़ायेव के साथ बैठक के बाद घोषणा की कि दुल्हनों का अपहरण गैर इस्लामी है और समाज से इसे खत्म किया जाना चाहिए.

अभी पिछले साल ही अपहृत दुल्हन सहित चार लोगों की मौत उस समय हो गई जब अपहरणकर्ता उस महिला के परिवार वालों से बचने के लिए कार को भगा रहा था.

चेचन्या के एक कारोबारी का कहना है, "हमें अपनी परंपरा पर गर्व है. यह रिवाज सदियों से चली आ रही है, आप इस पर रातोंरात रोक नहीं लगा सकते."

ग्रोज़नी में महिला अधिकारों के लिए काम करने वाली लिपखान बज़ाएव का मानना है कि हाल के वर्षों में दुल्हन अपहरण की घटनाएं बड़ी तेजी से बढ़ी हैं और रूस के ख़िलाफ़ दो युद्धों से वहां का समाज बर्बर हो चुका है.

उनकी संस्था वूमंस डिग्निटी सेंटर की ओर से कराए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि चेचन्या में हर पांच में से एक दुल्हन का अपहरण किया जाता है.

संबंधित समाचार