भारत के रास्ते नाइजीरिया पहुंचे हथियार

हथियार
Image caption इस तरह के हथियारों का इस्तेमाल अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान करता रहा है.

नाइजीरिया के तट रक्षक अधिकारियों का कहना है कि उनके एक बंदरगाह से पकड़ा गया विस्फोटकों से लदा जहाज़ भारत के रास्ते

नाइजीरिया पहुंचा है.

बीबीसी को मिली जानकारी के अनुसार लागोस के सबसे व्यस्त बंदरगाह अपापा पर पकड़े गए इस जहाज़ में कई कंटेनर थे जिनमें से कुछ में रॉकेट लांचर, हैंड ग्रेनेड, विस्फोटक और दूसरे घातक हथियार थे.

'एमवी सीएमए-सीजीएम एवरेस्ट' नामक यह जहाज़ 10 जुलाई को बंदरगाह पहुंचा और 15 जुलाई को अपापा बंदरगाह से निकल गया.

इस जहाज़ का आख़िरी पड़ाव मुंबई का जवाहर लाल नेहरु बंदरगाह था.

यात्रा

हालांकि इस बारे में कोई पुख़्ता जानकारी नहीं है कि इस जहाज़ की यात्रा कहां से शुरु हुई और विस्फोटकों से लदे कंटेनर इसमें कैसे पहुंचे.

Image caption अबूजा में लगभग चार हफ्ते पहले हुए कार बम धमाके के बाद सुरक्षा तंत्र को और मज़बूत बनाया गया है.

नाइजीरिया के अधिकारियों का दावा है कि इस जहाज़ ने अपनी यात्रा की शुरुआत ईरान से की.

जहाज़ का इस्तेमाल करने वाली कंपनी ने एक वक्तव्य जारी कर कहा है कि उसे जहाज़ पर लदे इस सामान के बारे में कोई जानकारी नहीं है.

नाइजीरिया की ख़ुफिया पुलिस ने इसे एक बड़ी सफलता बताया है.

सुरक्षा तंत्र

नाइजीरिया की राजधानी अबुजा में लगभग चार हफ्ते पहले हुए कार बम धमाके के बाद सुरक्षा तंत्र को और मज़बूत बनाया गया है.

नाइजीरिया में अगले साल अप्रैल में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होने वाले हैं.

फ़िलहाल पुलिस अधिकारियों ने बरामद किए गए हथियारों के जख़ीरे का कुछ हिस्सा ही लोगों के सामने पेश किया है.

बरामद किए गए हथियार उन रॉकेटों से मिलते हैं जिनका इस्तेमाल अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान करता रहा है.

सुरक्षा विशेषज्ञों का कहना है कि नाइजीरिया के हथियारबंद समूहों ने इस किस्म के हथियारों का इस्तेमाल पहले कभी नहीं किया है.

संबंधित समाचार