ब्रिटेन और फ़्रांस करेंगे साझा परमाणु परीक्षण

कैमरन-सारकोज़ी
Image caption डाउनिंग स्ट्रीट ने इस कदम को व्यावहारिक बताया है.

साझा तौर पर परमाणु हथियार तैयार करने और उनके परीक्षण करने के लिए ब्रिटेन और फ़्रांस एक समझौते पर हस्ताक्षर करने वाले हैं.

ब्रिटेन और फ़्रांस के बीच हो रहे परमाणु समझौते के अंतर्गत, परमाणु तकनीक विकसित करने के लिए ब्रिटेन में एक केंद्र बनाया जाएगा और फ्रांस में इस पर आधारित परीक्षण किए जाएंगे.

लंदन शिखर बैठक में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और फ़्रांस के राष्ट्रपति निकोलस सारकोज़ी एक ऐसी योजना सामने रखेंगे जिसके तहत साझा अभियानों के लिए दोनों देशों की एक साझा सेना होगी.

वित्तीय घाटा

डाउनिंग स्ट्रीट ने इस कदम को व्यावहारिक बताया है लेकिन विपक्षी लेबर पार्टी का कहना है कि ये ब्रिटेन के सुरक्षा मामलों पर एक बड़ा सवाल खड़ा करता है.

डाउनिंग स्ट्रीट के प्रवक्ता का कहना है कि "ये शिखर बैठक ब्रिटेन और फ़्रांस के गहरे होते द्विपक्षीय रिश्तों को दर्शाती है. दोनों देशों के सामने जो चुनौतियाँ हैं उनसे निपटने के लिए अब हमारी सामरिक साझेदारी है."

ये शिखर बैठक ऐसे समय हो रही है जबकि ब्रिटेन ने दो हफ़्ते पहले ही अपने सैन्य बजट में कटौती की घोषणा की है.

इस कटौती का उद्देश्य देश के वित्तीय घाटे को कम करने के लिए बचत करना है.

डेविड कैमरन और सारकोज़ी, परमाणु हथियारों और सैन्य साझेदारी के मामले में दो समझौतों पर हस्ताक्षर करेंगे.

वीटो

माना जा रहा है कि समझौतों के बावजूद दोनों देश अपने हथियारों का नियंत्रण ख़ुद करेंगे और गुप्त परमाणु जानकारी का आदान-प्रदान नहीं होगा.

समझौते के तहत जिस साझा सेना के बनाए जाने की बात हो रही है उसमें दोनों देशों की ओर से 5,000 सैनिक हो सकते हैं.

Image caption कैमरन ने कहा है कि ये समझौते दोनों देशों के हित में हैं.

ये सेना एक सैन्य कमांडर के अधीन काम करेगी और इस कमांडर का चुनाव दोनों देश मिलकर करेंगे.

हर अभियान के लिए दोनों देश एक दूसरे के विरुद्ध वीटो के इस्तेमाल का अधिकार भी रखेंगे.

गहरे होते रिश्ते

दोनों देश एक दूसरे के कुछ सीमित वायुयानों का इस्तेमाल भी कर पाएँगे और आपसी सहयोग के लिए युद्धपोत का भी उपयोग करेंगे.

ड्रोन, बारूदी सुरंगों से निपटने और संचार के लिए सैटेलाइट के उपयोग पर भी दोनों देशों के बीच सहयोग का प्रस्ताव है.

कैमरन ने सांसदों को कहा है कि "मैं ये मानता हूँ कि फ़्रांस के साथ हमारे ये सैन्य समझौते लंबे समय में दोनों देशों के हित में रहेंगे."

संबंधित समाचार