बॉबी के बाद अब निक्की की बारी

Image caption निक्की हेली अपने परिवार के साथ

बॉबी जिंदल के बाद दूसरी भारतीय मूल की अमरीकी, निक्की हेली, अमरीका के साउथ कैरोलाइना राज्य की गवर्नर चुन ली गई हैं.

ये वो राज्य है जो कुछ दशक पहले तक नस्लभेदी संघर्षों के लिए जाना जाता था.

रिपब्लिकन पार्टी की निक्की बहुत ही कम अंतर से जीत पाई हैं और माना जा रहा है कि चुनाव से पहले उनके ख़िलाफ़ आए कई स्कैंडलों की वजह से उनकी जीत का अंतर कम रहा.

उनपर आरोप लगा था कि वो अपना टैक्स समय पर नहीं चुकाती थीं.

उन्हें लगभग 52 प्रतिशत मत मिले हैं और उनके डेमोक्रैट प्रतिद्वंदी विंसेंट शेहीन को 46 प्रतिशत मत प्राप्त हुए.

निक्की की उम्र 38 साल की है और भारत छोड़कर आए उनके सिख माता-पिता का कपड़ों का व्यापार था.

नस्लभेदी ताना

लेकिन लूइज़ियाना के भारतीय मूल के गवर्नर बॉबी जिंदल की तरह ही निक्की ने भी अपने भारतीय मूल का कभी ज़िक्र नहीं किया है और चुनाव अभियान में अपने को एक ईसाई के तौर पर ही पेश किया.

लेकिन इसके बावजूद उन्हें चुनाव प्रचार के दौरान एक रिपब्लिकन सांसद के नस्लभेदी तानों का सामना करना पड़ा.

उस सांसद ने उन्हें ‘रैगहेड’ कहा जो आमतौर पर मध्य-पूर्व के लोगों के लिए अपमान के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है.

निक्की हेली का नाम तब उभरा जब पिछले चुनावों की उप-राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार सेरा पेलिन ने प्राइमरी चुनाव में उनका अनुमोदन किया.

उनके नाम का अनुमोदन दक्षिणपंथी टी पार्टी आंदोलन में महिला उम्मीदवारों की पैठ बढ़ाने के उद्देश्य से किया गया.

साउथ कैरोलाइना नागरिक अधिकार आंदोलन की कर्मभूमियों में से एक है और कांटे की टक्कर वाली राजनीतिक मुक़ाबलों के लिए जाना जाता है.

संबंधित समाचार