इराक़ में सरकार गठन के लिए सहमति

Image caption नूरी अल मलिकी के प्रधानमंत्री बने रहने की संभावना है.

इराक़ में राजनीतिक दलों के प्रवक्ताओं ने इस बात की पुष्टि की है कि नई सरकार के गठन के लिए सहमति बन गई है.

उनका कहना है कि मौजूदा प्रधानमंत्री नूरी अल मलिकी ही नए सरकार के प्रधानमंत्री होंगे और राष्ट्रपति पद पर जलाल तालाबानी बने रहेंगे.

अब संसद से इसकी पुष्टि की जानी है.

आठ महीने पहले हुए चुनाव के नतीजे स्पष्ट नहीं थे और उसके बाद से ही सरकार बनाने के लिए वार्ताएँ चल रही थी. अब जाकर समझौता हो पाया.

संदेह

इस गठबंधन को पूर्व प्रधानमंत्री अयाद अलावी दिशानिर्देश दे रहे हैं.

अमरीका ने इराक़ी राजनेताओं की तारीफ़ करते हुए कहा है कि ये इराक़ के लिए एक बड़ा क़दम है.

संसद की पुष्टि के बाद इराक़ में महीनों से ठप्प पड़ी सरकारी मशीनरी फिर से चल पड़ेगी. हालांकि सरकार को पूरा कामकाज संभालने में एक महीने का वक़्त लगेगा.

बीबीसी संवाददाता का कहना है कि शायद ही किसी देश ने संसदीय चुनाव के बाद सरकार बनाने में इतना लंबा समय लिया है.

सरकार का गठन तो हो जाएगा लेकिन बहिष्कार की धमकियों और जटिल बातचीत के दौर के बीच देखनेवाली बात ये होगी कि ये गठबंधन कितने दिन चल सकेगा.

इसके अलावा इराक़ में हिंसा की आशंका को कभी नकारा नहीं जा सकता और अल क़ायदा समेत अन्य चरमपंथी गुट किसी भी राजनीतिक दरार का फ़ायदा उठाने की हर कोशिश करेंगे.

संबंधित समाचार