थाईलैंड में दो हज़ार से अधिक भ्रूण मिले

Image caption भट्ठी ख़राब होने की वजह से भ्रूणों को जलाया नहीं गया था

बौद्ध मंदिर के शवगृह से बड़ी संख्या में मानव भ्रूण मिलने से देश में सनसनी फैल गई है.

इन भ्रूणों को उन शवों के साथ रखा गया था जिनका अंतिम संस्कार कुछ समय बाद किया जाना था मगर वहाँ लाश जलाने के लिए इस्तेमाल होने वाली विद्युत भट्ठी काम नहीं कर रही थी इसीलिए इन भ्रूणों को जलाया नहीं जा सका.

मंदिर के शव गृह के आसपास फैली दुर्गंध की वजह से पुलिस को शक हुआ. पुलिस ने इस मामले में मंदिर के रखरखाव से जुड़े दो लोगों और एक महिला को गिरफ़्तार किया है, महिला के बारे में पुलिस का कहना है कि वह कुछ नर्सिंग होम्स से पैसे लेकर इन भ्रूणों को मंदिर की विद्युत भट्ठी में जला देती थी.

पुलिस का मानना है कि ये सभी भ्रूण अवैध तरीक़े से किए गए गर्भपात का परिणाम हैं. पहले पुलिस को लगभग साढ़े तीन सौ भ्रूण मिले थे लेकिन बाद में जाँच करने पर यह संख्या दो हज़ार पार कर चुकी है.

थाइलैंड में कुछ अपवादों को छोड़कर गर्भपात ग़ैर कानूनी है लेकिन प्राइवेट नर्सिंग होम में अवैध तरीक़े से गर्भपात आम बात है.

अधिकारियों का कहना है कि बैंकॉक और उसके आसपास लगभग 4000 से ज़्यादा ऐसे क्लीनिक हैं जहां गैर कानूनी रुप से गर्भपात किए जाते हैं.

लैंजागॉर्न जनतामनत नाम की इस महिला ने माना है कि उसने हर भ्रूण के बदले 16 डॉलर लेकर कई दवाखानों से ये भ्रूण इक्कठा किए.

महिला ने इस पैसे का पांचवा हिस्सा एक ऐसे व्यक्ति को दिया जिसका काम था इन्हें ठिकाने लगाना.

थाईलैंड में मंदिरों को परंपरागत रूप से उन लोगों के शव रखने के लिए इस्तेमाल किया जाता है जिनका अंतिम संस्कार होना बाकी है.

संबंधित समाचार