नेपाल: आपात स्थिति में पास हुआ बजट

नेपाली संसद
Image caption बजट पारित होने में हुई इस देरी का असर देश के विकास कार्यों पर पड़ेगा.

नेपाल के राष्ट्रपति ने संसद में बजट पास करने के लिए अपने आपातकालीन अधिकारों का इस्तेमाल किया है. शुक्रवार को भारी हंगामे के बीच संसद में बजट प्रस्ताव रखा गया.

संसद में बजट प्रस्ताव रखने के बाद संसद में भारी हंगामा हुआ और विपक्ष दल माओवादी पार्टी लगातार वित्तमंत्री का विरोध करती रही.

नेपाल में पिछले लगभग पांच महीने से कार्यवाहक सरकार काम कर रही है. लगातार जारी विरोध और हंगामे के कारण बजट पास कराने में चार महीने की देर पहले ही हो चुकी है.

हालांकि विपक्षी दल ने अंतरिम बजट को मंज़ूरी दे दी थी, लेकिन हंगामा तब शुरु हुआ जब वित्त मंत्री ने संसद में पूर्ण रुप से बजट पास कराने की कोशिश की.

माओवादी पार्टी के सांसद चाहते हैं कि संसद में अंतरिम बजट ही रखा जाए.

इसके चलते कई सांसदों ने बजट प्रस्ताव के दौरान वित्तमंत्री से उनका ब्रीफकेस छीनने की कोशिश की.

मतभेद

इस हंगामे के चलते राष्ट्रपति ने बजट पास कराने के लिए आपातकालीन अधिकारों का इस्तेमाल करने का फैसला किया.

सांसदों को अगले 60 दिनों में इस बजट को अपनी मंज़ूरी देनी होगी.

जुलाई के महीने में नेपाल में बजट पर बहस होनी थी, लेकिन तीन बड़े राजनीतिक दलों के बीच मतभेदों के चलते यह काम पिछड़ता रहा.

बजट पारित होने में हुई इस देरी का असर देश के विकास कार्यों पर पड़ेगा.

कयास लगाए जा रहे थे कि बजट में देरी नेपाल में आर्थिक संकट को बुलावा दे सकती है.

इस बीच सभी राजनीतिक दल मिलकर अभी तक नेपाल के प्रधानमंत्री का चुनाव नहीं कर पाए हैं.

इस मसले पर संसद में अब तक 16 बार मतदान हो चुका है. 17वीं बार का मतदान अगले महीने होना तय किया गया है.

संबंधित समाचार