पोपः कुछ मामलों में कंडोम ठीक

कंडोम

रोमन कैथलिक चर्च के धर्मगुरू पोप बेनेडिक्ट 16वें ने जर्मनी के एक पत्रकार से कहा है कि कंडोम का इस्तेमाल कुछ विशेष परिस्थितियों में जायज़ है.

पोप का कहना था कि कंडोम पुरूष यौन कर्मियों में एड्स की बीमारी या एचआईवी संक्रमण को कम करने का काम कर सकता है.

उन्होंने ये भी कहा कि कंडोम की बजाय कामुकता के प्रति और मानवीय दृष्टिकोण रखना एचआईवी संक्रमण से लड़ने का और बेहतर तरीका है.

पोप की ये टिप्पणी एक किताब में छपी हैं जिसका कुछ अंश 'वैटिकन' अख़बार के शनिवार के संस्करण भी छापा गया है.

एड्स संकट के संदर्भ में गर्भनिरोध के मामले पर चर्च के कड़े रूख की वजह से उसकी काफ़ी निंदा हुई है.

एड्स संकट

जिस नई पुस्तक में पोप के ये विचार छपे हैं, उसे जर्मनी के एक पत्रकार, पीटर सीवाल्ड ने लिखी है.

ये नैतिकता क़ायम करने की ओर उठाया गया पहला कद़म है, हाँलाकि ये एचआइवी संक्रमण से निपटने का सही तरीका नहीं है.

पोप बेनेडिक्ट 16वें

ये पुस्तक पोप के साथ सीवाल्ड के साक्षात्कारों पर आधारित है और इस साल की शुरूआत में छपी इस किताब का नाम है, 'लाइट ऑफ़ द वर्ल्डः द पोप, द चर्च एण्ड द साइंस ऑफ़ द टाइम्स'.

जब इंटरव्यू के दौरान पोप से ये पूछा गया कि क्या कैथलिक चर्च उसूल के तौर पर कंडोम के इस्तेमाल के विरूद्ध नहीं है, पोप का जवाब था, "ज़ाहिर तौर पर चर्च इसे समस्या का वास्तविक या असली हल नहीं मानता, लेकिन कुछ मामलों में संक्रमण के ख़तरे को कम करने के उद्देश्य से इसे उस अलग तरीके की ओर अग्रसर होने के लिए उठाया गया पहला क़दम माना जाना चाहिए जो कामुकता या कामभावना से संतुष्ट होने का एक मानवीय तरीका है."

पुरुष यौनकर्मियों द्वारा कंडोम के इस्तेमाल का उदाहरण देते हुए पोप ने कहा,"ये नैतिकता क़ायम करने की ओर उठाया गया पहला कद़म है, हाँलाकि ये एचआइवी संक्रमण से निपटने का सही तरीका नहीं है."

पोप ने कहा कि "कंडोम के प्रति इस तरह की आसक्ति का मतलब कामुकता को तुच्छ मानने जैसा है.कामुकता अब प्यार के इज़हार का तरीका नहीं रह गया है बल्कि ये ख़ुद को देनेवाली एक नशीली दवा भर रह गई है."

सराहना

पोप

पोप पहले कॉन्डोम के इस्तेमाल के विरूद्ध बोल चुके हैं.

कैथलिक मामलों के टीकाकार ऑस्टन हाइवरी ने कहा है कि हाँलाकि ये पहला मौका है जबकि पोप ने अपना विचार रखा है लेकिन ये उससे मेल खाता है जो कैथलिक चर्च के धर्मशास्त्री वर्षों से कहते रहे हैं.

एचआईवी-एड्स पर संयुक्त राष्ट्र के कार्यक्रम, यूएनएड्स ने पोप की इस टिप्पणी का स्वागत किया है.

पिछले साल कैमरून की यात्रा पर गए पोप ने कहा था कि कंडोम का इस्तेमाल सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है और एचआईवी-एड्स के वायरस को रोकने की बजाय इस समस्या को और बढ़ा सकता है.

एड्स के विरूद्ध अभियान चलानेवालों का मानना है कि एचआईवी-एड्स के संक्रमण को रोकने के लिए कंडोम का इस्तेमाल एक सिद्ध किया हुआ तरीका है.

जिस पुस्तक में पोप की ये टिप्पणियाँ छपीं हैं, वो मंगलवार को अंग्रेज़ी भाषा में प्रकाशित होनेवाली है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.