'चीन ने दिए थे कोरियाई एकीकरण के संकेत'

विकीलीक्स
Image caption सामने आए दस्तावेज़ों के अनुसार चीन कोरिया के एकीकरण की हिमायत कर सकता है.

विकीलीक्स ने जो गोपनीय सामग्री सार्वजनिक की है उससे संकेत मिले हैं कि चीन उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के एकीकरण की हिमायत कर सकता है.

विकीलीक्स के अनुसार दो चीनी उच्चाधिकारियों ने दक्षिण कोरिया के अधिकारियों से कहा था कि चीन उत्तर कोरिया के सहयोगी होने को अधिक महत्व नहीं देता.

'भारत सुरक्षा परिषद का स्वघोषित दावेदार'

चीनी अधिकारियों ने कहा कि सारे कोरियाई प्रायद्वीप को दक्षिण कोरिया के अधीन हो जाना चाहिए बशर्ते नया देश चीन के प्रति शत्रुतापूर्ण रवैया ना रखे.

एक अन्य संदेश में चीन के उप विदेश मंत्री ने उत्तर कोरिया को 'बिगड़ैल बच्चा' भी कहा .

लेकिन बीबीसी के कूटनीतिक संवाददाता के अनुसार ये मालूम नहीं है कि दक्षिण कोरिया की टिप्पणियां बीजिंग की सोच का कितना सही आकलन हैं.

इसीबीच अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि विकीलीक्स को जानकारी देने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

उन्होंने कहा विकीलीक्स का दस्तावेज़ जारी करना विश्व समुदाय पर हमला है.

'उत्तर कोरिया का पतन'

सोमवार को सामने आए दस्तावेज़ों में इस साल फ़रबरी में दक्षिण कोरिया के पूर्व उप विदेश मंत्री चुन युंग-वू और सियोल में अमरीकी राजदूत कैथलीन स्टीफ़ंस के बीच बातचीत का ब्यौरा है.

इस ब्यौरे में मंत्री ने कहा है कि नए और युवा चीनी नेता उत्तर कोरिया को 'उपयोगी और भरोसेमंद सहयोगी' नहीं मानते और वे प्रायद्वीप में किसी नए हथियारबंद संकट का जोखिम नहीं लेना चाहते.

क्या है विकीलीक्स?

विकीलीक्स के ज़रिए सामने आए दस्तावेज़ के अनुसार अमरीकी राजदूत कैथलीन स्टीफ़ंस को दक्षिण कोरिया के पूर्व उप विदेश मंत्री चुन युंग-वू ने बताया कि उत्तर कोरिया आर्थिक रूप से पहले ही तबाह हो चुका है और किम जोंग-इल की मौत के दो-तीन साल बाद राजनीतिक रूप से भी ढेर हो जाएगा.

सांप का सिर काट दिया जाए

बीबीसी के कूटनीतिक संवाददाता जोनाथन मार्कस कहते हैं, " ये बहुत ही दिलचस्प ब्यौरा है लेकिन कोरिया प्रायद्वीप के जानकार सावधान कर रहे हैं कि ये बीजिंग में चल रही बहस का बहुत 'दक्षिण कोरियाई नज़रिया' है."

जोनाथन मार्कस के अनुसार चीन में कुछ लोगों के बीच उत्तर कोरिया के प्रति निराशा बढ़ी है. उनके अनुसार चीन कोरियाई संकट में एक प्रमुख खिलाड़ी है क्योंकि चीन उत्तर कोरिया के साथ किसी किस्म की बातचीत में मध्यस्थ बन सकता है.

संबंधित समाचार