विकीलीक्सः ब्रिटेन के शाही परिवार पर भी टिप्पणियाँ

प्रिंस चार्ल्स राष्ट्रमंडल खेलों का उद्घाटन करते हुए
Image caption दिल्ली में हुए राष्ट्रमंडल खेलों का उद्घाटन प्रिंस चार्ल्स ने ही किया था

विकीलीक्स ने जो अमरीका के दूतावास के दस्तावेज़ जारी किए हैं उसमें ब्रिटेन के शाही परिवार के प्रिंस चार्ल्स और प्रिंस एंड्र्यू के बारे में की गई टिप्पणियाँ भी हैं.

इनमें से एक अमरीकी राजदूत ने की है और दूसरी टिप्पणी एक भारतीय राजनयिक की ओर से की गई है.

ये जानकारी ब्रिटेन के प्रमुख अख़बारों में से एक 'द गार्डियन' मे छपी है.

अभी राजपरिवार की ओर से इस पर कोई टिप्पणी नहीं आई है.

राष्ट्रमंडल और प्रिंस चार्ल्स

विकीलीक्स के मुताबिक़ ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स के बारे में भारत में राष्ट्रमंडल खेल के एक अधिकारी ने कहा है कि 'उन्हें वही सम्मान प्राप्त नहीं है' जो महारानी एलिज़ाबेथ को है.

दस्तावेज़ों के मुताबिक ये बातें राष्ट्रमंडल खेलों के सचिवालय में राजनीतिक मामलों के निदेशक अमिताभ बैनर्जी ने तब कहीं जब एक चर्चा के दौरान उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें लगता है कि महारानी एलिज़ाबेथ की मृत्यु के बाद प्रिंस चार्ल्स राष्ट्रमंडल संस्था के उत्तराधिकारी बनेंगे.

लीक हुई जानकारी के मुताबिक लंदन में 11 जून, 2009 को अमिताभ बैनर्जी ने कहा कि प्रिंस चार्ल्स को 'वही सम्मान प्राप्त नहीं है जो महारानी को है.'

विकीलीक्स के अनुसार बैनर्जी ने आगे ये भी कहा कि 'धीमे-धीमे यह कोशिश हो रही है कि उन्हें राष्ट्रमंडल के मामलों में और ज़्यादा शामिल किया जाए.'

उन्होंने कहा "ऐसा कोई नियम नहीं है कि ब्रिटेन का शाही परिवार ही राष्ट्रमंडल खेलों का नेतृ्त्व करेगा और उसका मुखिया चुनने के लिए कोई नियम भी नहीं है."

प्रिंस ऐंड्र्यू भी

विकीलीक्स पर जारी जानकारी के मुताबिक़ अमरीका के राजदूत ने एक गोपनीय संदेश में कहा है कि प्रिंस ऐंड्रयू ने एक औपचारिक समारोह में इस तरह से बात की जिसे 'अक्खड़पन' कहा जा सकता है.

विकीलीक्स के दस्तावेज़ों में किरगिज़स्तान में अमरीका की राजदूत तातियाना फ़ोयलर की ये टिप्पणी सामने आई है.

बकिंघम पैलेस ने इन टिप्पणियों पर अब तक कोई प्रतिक्रिया ज़ाहिर नहीं की है.

अमरीका की राजदूत का कहना है कि एक सरकारी समारोह के दौरान प्रिंस ऐंड्रयू ने उस 'ग़ुरूर' भरे अंदाज़ में बात की जिस बातचीत को 'अक्खड़पन के क़रीब' कहा जा सकता है.

उन्होंने कहा कि प्रिंस ऐंड्रयू ब्रिटेन के व्यापार मामलों के विशेष प्रतिनिधि हैं और उन्होंने गंभीर धोखाधड़ी के मामलों की जाँच करनेवाले विभाग की निंदा की.

इस विभाग ने ब्रिटिश एयरोस्पेस और सऊदी अरब के बीच हुए हथियारों के सौदे की जाँच की है.

अक्टूबर 2008 का ये संदेश 'द गार्डियन' में छपा है और इसके मुताबिक़ प्रिंस ऐंड्रयू ने 'ब्रिटेन के भ्रष्टाचार विरोधी जाँचकर्ताओं को भला-बुरा कहा जिन्होंने सऊदी अरब के साथ अल-यामामा समझौता लगभग विफल ही कर दिया था.'

दस्तावेज़ों के मुताबिक प्रिंस ऐंड्रयू ने गार्डियन के पत्रकारों की आलोचना भी की और कहा, "वो हर जगह अपनी नाक भिड़ाते रहते हैं."

संबंधित समाचार