'लीबिया ने ब्रिटेन को धमकाया'

अल-मेग्राही
Image caption अल-मेग्राही को पिछले साल स्कॉटलैंड ने रिहा कर दिया था.

विकीलीक्स के ज़रिए सामने आए गोपनीय अमरीकी दस्तावेज़ों से पता चला है कि लीबिया ने लॉकरबी कांड के लिए ज़िम्मेदार अल-मेग्राही को ब्रितानी जेल छुड़ाने के लिए किस तरह से दबाव बनाया था.

वर्ष 1988 में स्कॉटलैंड के लॉकरबी में पैन-एम एअरलाइन के विमान को उड़ा दिया गया था. इस हमले में तीन सौ लोग मारे गए थे.

इन हमलों के लिए दोषी पाए गए अब्दलबासित अल-मेग्राही को कैंसर से पीड़ित होने की वजह से पिछले वर्ष स्कॉटलैंड ने रिहा कर दिया था.

सामने आए संदेशों से पता चलता है कि लीबिया ने अल-मेग्राही की रिहाई के लिए ब्रिटेन को किस तरह धमकाया था.

धमकियाँ

लीबिया ने ब्रिटेन के साथ सभी वाणिज्यिक गतिविधियों को समाप्त करने और कूटनीतिक संबंधों को तोड़ने जैसी धमकियाँ दी थीं.

साथ ही ब्रिटेन के कूटनीतिज्ञों और उनके परिवार के ख़िलाफ़ हिंसा करने के भी संकेत दिए थे.

विकीलीक्स की वेबसाइट पर छपे इस संदेश को गार्डियन अख़बार ने प्रकाशित किया है.

संदेश में कहा गया है कि अल-मेग्राही के मामले में ब्रिटेन 'एक तरफ़ कुआं और एक तरफ़ खाई' जैसी स्थिति में था.

दस्तावेज़ के अनुसार कथित तौर लीबिया में ब्रिटेन के राजदूत ने एक अमरीकी कूटनीतिज्ञ को इस विषय पर ब्रितानी सोच के बारे में अवगत करवाया था.

गोपनीय अमरीकी संदेश में इस बात का भी विवरण है कि किस तरह लीबिया में ब्रितानी कूटनीतिज्ञ किसी भी संभावित लीबियाई प्रदर्शन से निपटने के लिए तैयारी कर रहे थे.

संबंधित समाचार