मेकअप करने की मिली सज़ा

Image caption पुरुष मॉ़डल्स के वकीलों की दलील थी कि टेलिविज़न पर आने के लिए मेकअप करना ज़रूरी है.

सूडान के सात पुरुष मॉ़डल्स को मेकअप कर एक शो में शामिल होना भारी पड़ा.

अशोभनीय चीज़ों पर रोक लगाने वाले एक इस्लामी क़ानून के तहत सूडान के कुछ जजों ने मेकअप कर ‘नेक्स्ट सुडानीज़ टॉप मॉडल’ नामक शो में शामिल होने के लिए इन पुरुष मॉ़डल्स पर जुर्माना लगाया है.

पुरुष मॉ़डल्स के वकीलों की दलील थी कि टेलीविज़न पर आने के लिए मेकअप करना ज़रूरी है. लेकिन जजों ने इस्लामी कानून के तहत पुरुषों के मेकअप किए जाने को आपत्तिजनक और अभद्र माना.

आलोचना

सभी अभियुक्तों को जुर्माने के तौर पर 200 सूडानी पाउंड देने होंगे. इस्लामी क़ानून के तहत उन्हें जेल भी हो सकती थी.

समाचार एजेंसी एएफ़पी ने इन अभियुक्तों के वकील के हवाले से बताया, ''ये सही नहीं है. लेकिन ये यहां की सच्चाई भी है. इस सज़ा से बचने का फिलहाल कोई उपाय नहीं है. हम जुर्माना भरेंगे और फिर इसके ख़िलाफ़ अपील करेंगे. ''

सूडान के इस क़ानून की देशभर में क़ाफी आलोचना भी हुई है.

पिछले साल इस क़ानून के तहत सूडान की एक महिला पत्रकार को पैंट पहनने के आरोप में कैद कर लिया गया था.

लोगों की अपील और मानवाधिकार संगठनों के विरोध-प्रदर्शनों के बाद इस महिला को रिहा कर दिया गया था.

संबंधित समाचार