'सऊदी अमीर-उमरा भोग-विलास में सराबोर'

अरब
Image caption सऊदी अरब को सामान्यत एक रूढ़ीवादी समाज माना जाता है

सऊदी अरब की छवि आमतौर पर भले ही मज़हब का लबादा ओढ़े एक रूढ़िवादी समाज की हो लेकिन पर्दे के पीछे वहाँ के अमीर-उमरा और शाही परिवार का एक वर्ग मदिरा, सेक्स, नशीली दवाइयों और नृत्य-रंग में सराबोर है.

विकीलीक्स पर प्रकाशित एक राजनयिक संदेश के मुताबिक़ पिछले साल शाही परिवार के एक व्यक्ति ने अमरीकी त्योहार हैलोवीन के अवसर पर एक पार्टी दी जिसमें इस्लाम में लगाई गई सभी रूकावटों की धज्जियाँ उड़ गईं.

अमरीका के जेद्दा स्थित दूतावास से भेजे गए संदेश के अनुसार पार्टी में वेश्याएँ बड़ी तादाद में मौजूद थीं और शराब की मानों नदियां बह रही थी.

जहाँ पार्टी आयोजित की गई थी वहाँ सुरक्षा के कड़े इंतज़ाम थे.

पार्टी अल-थुनियन परिवार से ताल्लुक रखनेवाले एक धनी राजकुमार ने आयोजित की थी.

अमरीकी दूतावास ने जो संदेश भेजा था उसमें राजकुमार का नाम नहीं बताया गया है.

इन दिनों विकीलीक्स नाम की एक वेबसाइट अमरीकी राजनयिकों के ज़रिए भेजे गए संदेश प्रकाशित कर रही है जिसे लेकर दुनिया के कई देशों खासतौर पर अमरीका में बहुत हलचल है.

संदेश के मुताबिक़ पार्टी का कुछ ख़र्च अमरीका की एक पेयजल बनानेवाली कंपनी ने दिया था.

चूंकि ऐसी पार्टियाँ शाही परिवार के सदस्यों के ज़रिए दी जाती है और या इन्हें परिवार के किसी सदस्य का संरक्षण प्राप्त होता है इसलिए वहाँ धार्मिक नियमों के पालन की देख-रेख करनेवाली पुलिस के आने का ख़तरा नहीं रहता है.

ऐसी पार्टी के शौक़ीनों के लिए ज़रूरी है कि वो राजघराने के किसी व्यक्ति से नज़दीकी बढ़ाएं.

सऊदी अरब में कम से कम 10,000 प्रिंस हैं जिनमें से कुछ का ताल्लुक़ तो सीधे तौर पर शाही परिवार से है और कुछ उससे संबध रखनेवाले ख़ानदान के सदस्य हैं.

ऐसी पार्टियों की तादाद हाल के दिनों में तेज़ी से बढ़ी है.

एक युवा नागरिक के मुताबिक़ समाज में बढ़ती रूढ़िवादिता के मद्देनज़र सामाजिक 'मेल-मिलाप' बंद कमरों के भीतर तेज़ हुआ है.

जेद्दा में मौजूद अमीर लोगों के घरों में सामान्यतः घर के नीचे बने तहख़ानों में बार, डिस्को और क्लब ज़रूर मौजूद होते हैं.

संबंधित समाचार