चीन में विदेशी शब्दों के प्रकाशन पर रोक

चीनी अख़बार

चीन सरकार का कहना है विदेशी शब्दों से चीनी भाषा की शुद्धता नष्ट हो रही है

चीन ने देश में अख़बारों, पत्र-पत्रिकाओं और वेबसाइटों पर विदेशी शब्दों और विशेष रूप से अंग्रेज़ी के शब्दों का प्रयोग करने पर पाबंदी लगा दी है.

चीन सरकार के प्रेस और प्रकाशन विभाग ने कहा है कि ऐसे शब्दों से चीनी भाषा की शुद्धता नष्ट हो रही है.

चीन के पीपुल्स डेली अख़बार में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार विभाग ने कहा है कि लेखन में चीन की मानक भाषा का ही प्रयोग किया जाना चाहिए.

उन्होंने प्रेस से विदेशी छोटे नामों और उपनामों से बचने के साथ-साथ - चिंग्लिश - से भी बचने के लिए कहा जो ऐसी भाषा को कहा जाता है जिसमें इंग्लिश और चीनी शब्दों का मिश्रण होता है.

ये आदेश रेडियो और टीवी प्रसारणों पर भी लागू होता है.

चीन सरकार का कहना है कि आर्थिक और सामाजिक उन्नति के साथ-साथ चीन में लगातार विभिन्न तरह के प्रकाशनों में विदेशी भाषाओं का प्रयोग बढ़ता जा रहा है.

सरकार के अनुसार ऐसा करने से चीनी भाषा की शुद्धता गंभीर रूप से नष्ट हुई है और इससे देश के सांस्कृतिक वातावरण पर प्रतिकूल सामाजिक प्रभाव पड़ रहा है.

प्रेस और प्रकाशन विभाग ने कहा है कि यदि किसी चीज़ को विदेशी भाषा में लिखना बिल्कुल ही आवश्यक हो तो उसके साथ-साथ चीनी भाषा में उसकी व्याख्या भी आवश्यक है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.