असांज लिखेंगे आत्मकथा

Image caption असांज हाल ही में ज़मानत पर रिहा हुए हैं

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज अपनी आत्मकथा लिखने जा रहे हैं जिसके लिए उन्हें 11 लाख पाउंड मिलेंगे.

अमरीकी ख़ुफ़िया दस्तावेज़ लीक करके चर्चा में आए 39 वर्षीय जूलियन असांज ने कहा है कि इस रक़म का इस्तेमाल वे यौन उत्पीड़न के आरोपों के ख़िलाफ़ क़ानूनी लड़ाई में करेंगे.

असांज ने संडे टाइम्स को दिए गए इंटरव्यू में कहा, "मैं कोई किताब नहीं लिखना चाहता लेकिन मुझे लिखना पड़ेगा. मैं कानूनी पचड़े में पहले ही दो लाख पाउंड ख़र्च कर चुका हूँ, मुझे अपना बचाव करना है और विकीलीक्स को भी चलाए रखना है."

ऑस्ट्रेलियाई पत्रकार असांज के ऊपर स्वीडन में दो महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न का आरोप है, स्वीडन की सरकार चाहती है कि असांज को इस मामले में पूछताछ के लिए स्वीडन प्रत्यर्पित किया जाए.

लंदन में असांज को इसी मामले में गिरफ़्तार किया गया था और पिछले दिनों ज़मानत पर रिहा किया गया है.

असांज ने कहा है कि वे ब्रिटेन में रहते हुए किसी भी तरह के सवालों का जवाब देने के लिए तैयार हैं लेकिन उन्हें डर है कि अगर उन्हें स्वीडन भेजा गया तो उन्हें अमरीका के हाथों सौंपा जा सकता है.

अमरीका ख़ुफ़िया दस्तावेज़ लीक करने के मामले में असांज पर आपराधिक मुक़दमा चलाना चाहता है और अमरीका के उप-राष्ट्रपति जो बाइडन असांज को "हाइटेक टेररिस्ट" कह चुके हैं.

दिलचस्प बात है कि असांज की आत्मकथा की पब्लिशर एल्फ्रेड ए नॉफ़ है, जो एक अमरीकी कंपनी है.

असांज की वेबसाइट विकीलीक्स के पास लगभग ढाई अमरीकी ख़ुफ़िया दस्तावेज़ हैं जिन्हें धीरे धीरे प्रकाशित किया जा रहा है और हर रोज़ मीडिया में नई-नई सुर्ख़ियाँ बन रही हैं.

अमरीकी अधिकारियों ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि असांज ने जो किया है वह 'आपराधिक कृत्य' है और वे उन्हें इसकी सज़ा दिलाना चाहते हैं.

असांज की वेबसाइट विकीलीक्स आम लोगों से मिलने वाले चंदे पर निर्भर करती है लेकिन वीज़ा और मास्टरकार्ड जैसी कंपनियों ने उन्हें मिलने वाली चंदे की रक़म की प्रोसेसिंग रोक दी है इसलिए विकीलीक्स की माली हालत पर असर पड़ा है.

संबंधित समाचार