ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति का इस्तीफ़ा

Image caption राष्ट्रपति बेन अली पर पद छोड़ने का दबाव लगातार बढ़ता जा रहा था

ट्यूनीशिया के राष्ट्रपति ज़ैनअल आब्दिन बेन अली ने इस्तीफ़ा दे दिया है. वह 23 वर्षों से सत्ता शीर्ष पर क़ाबिज़ थे.

प्रधानमंत्री मोहम्मद गनूशी ने देश का अंतरिम शासन संभालने की घोषणा करते हुए सरकारी टेलीविज़न पर बेन अली के पद से हटने की बात बताई.

देश में महंगाई, बेरोज़गारी और भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लगातार कई हफ़्तों से आंदोलन चला रहे प्रदर्शनकारियों की मुख्य माँग राष्ट्रपति के इस्तीफ़े की ही थी.

शुक्रवार शाम ग़नूशी ने कहा कि राष्ट्रपति बेन अली अस्थायी रूप से अपना दायित्व निभाने के लिए अनुपलब्ध हैं.

उन्होंने ये नहीं बताया कि राष्ट्रपति बेन अली इस समय कहाँ हैं. हालाँकि अरबी मीडिया में आ रही रिपोर्टों के अनुसार वे देश से बाहर चले गए हैं.

उल्लेखनीय है कि बेन अली 1987 से ही ट्यूनिशिया के सत्ताशीर्ष पर काबिज़ रहे हैं.

आपातकाल

रिपोर्टों के अनुसार शुक्रवार शाम सेना ने राजधानी ट्यूनिस के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे को अपने नियंत्रण में ले लिया.

इससे पहले राष्ट्रपति बेन अली ने सरकार और संसद को भंग करते हुए छह महीने के भीतर नया चुनाव कराने की घोषणा की थी.

इसी के साथ देश में आपातकाल घोषित कर दिया गया था.

इससे पहले प्रदर्शनकारियों को शांत करने के उद्देश्य से गुरुवार को राष्ट्रपति बेन अली ने इस कार्यकाल के बाद 2014 में चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी.

लेकिन प्रदर्शनकारी इस आश्वासन से बिल्कुल संतुष्ट नहीं हुए और उन्होंने राष्ट्रपति के तत्काल इस्तीफ़े की माँग के साथ शुक्रवार को ट्यूनिस में गृह मंत्रालय के सामने विरोध प्रदर्शन किया.

विरोध प्रदर्शनों के दौरान कम से कम 23 लोग मारे गए हैं. हालाँकि मानवाधिकार संगठनों के अनुसार मरने वालों की संख्या 60 से भी ज़्यादा है.

संबंधित समाचार