इसराइली जाँच में हमले को उचित बताया

Image caption इसराइल नाकेबंदी तोड़कर गज़ा में सहायता सामग्री पहुँचाने का विरोध करता है

इसराइल ने अपनी जाँच में पिछले साल सहायता लेकर गज़ा जाने वाले एक जहाज़ी बेडे़ पर हमले को उचित ठहराया है.

इसराइल का कहना है कि इसमें कोई अंतरराष्ट्रीय क़ानून का उल्लंघन नहीं हुआ है.

इसराइल के टर्केल आयोग ने पाया कि इसराइली सैनिकों ने आत्मरक्षा में गोलियाँ चलाईं.

साथ ही आयोग का कहना है कि गज़ा की नाकेबंदी उचित थी और जहाज़ी बेड़ा इसको तोड़ना चाह रहा था.

उल्लेखनीय है कि गत मई में सहायता लेकर गज़ा जा रहे जहाज़ी बेड़े पर इसराइली सैनिकों ने हमला कर दिया था.

इस हमले में नौ फ़लस्तीनी समर्थक कार्यकर्ता मारे गए थे.

व्यापक निंदा

Image caption इसराइली कार्रवाई की संयुक्त राष्ट्र और कई देशों ने निंदा की थी

मई में की गई इसराइल की कार्रवाई की कई देशों ने निंदा की थी और इसके बाद इसराइल पर नाकेबंदी हटाने का दबाव बढ़ा था.

अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद इसराइल ने जून में गज़ा पट्टी में अपनी नाकेबंदी में कुछ ढील देने की घोषणा की थी और कहा था कि अब गज़ा में आम लोगों की ज़रुरत के सामान ले जाने की छूट होगी.

इसराइल ने कहा था कि जो भी सामान प्रतिबंधित सामग्रियों की सूची में शामिल नहीं होगा उसे गज़ा ले जाने से नहीं रोका जाएगा.

लेकिन इसे नाकाफ़ी बताते हुए फ़लस्तीनी प्रशासन के अधिकारियों ने कहा था कि प्रतिबंध पूरी तरह से हटाया जाना चाहिए.

फ़लस्तीनी क्षेत्र वर्ष 2005 से इसराइल की ओर से लगाए गए आर्थिक नाकेबंदी का सामना कर रहा है.

संबंधित समाचार