आतंकवाद सबसे गंभीर ख़तरा: सुरक्षा परिषद

डोमोडेडोवो हवाई अड्डा

रूस की राजधानी मॉस्को में हुए बम धमाके की अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने निंदा की है और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने कड़े शब्दों में इस हमले की निंदा करते हुए दुनिया में शांति को आतंकवाद से पैदा हुए ख़तरों के बारे में चेताया है.

मॉस्को में हुए बम धमाके में 35 लोग मारे गए और सौ से अधिक घायल हुए हैं.

मॉसकों में धमाका, 35 मारे गए कई घायल हुए

अमरीका समेत अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इसकी कड़ी निंदा की है.

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और अमरीकी विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने धमाके के तत्काल बाद इसे निंदनीय बताया.

अंतरराष्ट्रीय समुदाय की ओर से लगभग इसी तरह से स्वर सुनाई दिए हैं.

स्पेन की सरकार ने इसे घृणा योग्य आतंकवादी हरकत बताया है.

तस्वीरों में - मॉस्को में धमाका

यूरोपीय संघ के प्रेसिडेंट हरमन वान रोमप्यू ने कहा है कि इसके लिए जो भी ज़िम्मेदार है उसे दंड दिया जाना चाहिए.

'कारण कोई भी हो, आतंकवाद सही नहीं'

Image caption डोमोडेडोवो मॉस्को का सबसे व्यस्त हवाई अड्डा है और शहर से 40 किलोमीटर दूर है

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष इवान बारबालिक ने कहा, "सुरक्षा परिषद के सदस्य मानते हैं कि हर तरह का आतंकवाद फिर वो कोई भी शक्ल या आकार लिए हुए हो, अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे गंभीर ख़तरों में से एक है. आतंकवादी गतिविधियाँ आपराधिक हरकतें हैं और चाहे कोई भी, कभी भी, किसी भी कारण से इन्हें अंजाम दे, इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता है."

सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष ने कहा कि सभी सदस्य अपनी ज़िम्मेदारियों के मुताबिक और संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत हर तरह के आतंकवाद का सामना करने के लिए दृढ़ संकल्प हैं.

शक़ विद्रोहियों पर - विश्लेषण

उनका कहना था कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य मॉस्को के हवाई अड्डे पर हुए आतंकवादी हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं जिसके कारण अनेक लोगों की जान गई है और कई अन्य घायल हुए हैं.

संबंधित समाचार