अल्जीरिया में प्रदर्शनों पर लगी रोक

प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इस साल की शुरुआत में ही चीनी और खाद्य तेल की बढ़ती कीमतों के विरोध में अल्जीरिया में प्रदर्शन हुए थे.

मिस्र में राष्ट्रपति होस्नी मुबारक की रवानगी के बाद जश्न का माहौल है लेकिन पड़ोसी देश अल्जीरिया में लोकतंत्र के समर्थन में उठ रही आवाज़ों को धीमा करने की कोशिशें तेज़ कर दी गई हैं.

शनिवार को अल्जीरिया की राजधानी अल्जीयर्स में लोकतंत्र के समर्थन में होने वाली रैली पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. हालांकि विपक्षी दलों और सामाजिक अधिकारों के लिए लड़ रहे लोगों ने बेहतर जीवन की उम्मीद और आज़ादी के हक में यह रैली करने का फैसला किया है.

शुक्रवार को अल्जीरिया की पुलिस ने मिस्र के राष्ट्रपति के पद छोड़ने के बाद जश्न मनाने को उत्सुक जनता को सड़कों पर जाने से रोक दिया था.

जनविरोध

बीबीसी संवाददाता के मुताबिक टुनिशिया और मिस्र जैसे आंदोलन की शुरुआत को रोकने के लिए ही ऐसा किया गया.

राजधानी अल्जीयर्स में पहले से ही भारी मात्रा में पुलिस तैनात है. साथ ही दंगा विरोधी दस्ते, हथियारों से लैस ट्रक और हवाई निगरानी के लिए हैल्कॉप्टरों की मदद ली जा रही है.

इस साल की शुरुआत में ही चीनी और खाद्य तेल की बढ़ती कीमतों के विरोध में अल्जीरिया में प्रदर्शन हुए थे.

राष्ट्रपति अब्दल अज़ीज़ बूतेफ्लिका ने बढ़ती महंगाई को कम करने का वादा किया है. हालांकि उनकी सरकार लगातार टुनिशिया और मिस्र के घटमाक्रम पर नज़र बनाए हुए है और किसी भी रुप में उभर रहे जनविरोध को दबावे की कोशिश करेगी.

संबंधित समाचार