बहरीन, लीबिया में प्रदर्शन, ईरान में विवाद

बहरीन में प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption बहरीन में सरकार विरोधी प्रदर्शन ज़ोर पकड़ रहे हैं.

मिस्र और ट्यूनिशिया में प्रदर्शनों के बाद लीबिया और बहरीन में प्रदर्शन हो रहे हैं जबकि ईरान में सोमवार को हुए प्रदर्शनों में एक व्यक्ति की मौत सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच विवाद का मुद्दा बन गया है.

बहरीन में हज़ारों प्रदर्शनकारी राजधानी मानामा में तीसरे दिन भी सरकार विरोधी प्रदर्शन कर रहे हैं.

रात भर पर्ल चौराहे में जमा हुए प्रदर्शनकारियों से कुछ ही दूरी पर अनेक सुरक्षाकर्मी तैनात हैं.

पिछले दिनों में प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाकर्मियों के बीच हुए प्रदर्शनों में दो सरकार विरोधी प्रदर्शनकारी मारे गए थे.

बहरीन में विपक्ष की माँग है कि वह असल में संवैधानिक राजशाही चाहती है और इसके तहत प्रधानमंत्री की नियुक्ति शाह के द्वारा नहीं होनी चाहिए बल्कि उसका चुनाव होना चाहिए.

बीबीसी संवाददाता जोन लेयन के अनुसार शिया बहुमत जनता बहरीन में अल्पसंख्यक सुन्नी शासकों से और अधिकार प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं.

लीबिया में झड़पें, गुरुवार का आहवान

दूसरी ओर पूर्वी लीबिया के बेनग़ाज़ी शहर में गत रात हिंसक प्रदर्शन हुए हैं.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है कि प्रदर्शनकारियों ने सरकारी दफ़्तरों तक मार्च किया और वहाँ पुलिस के साथ झड़पें हुईं. ये मार्च एक मानवाधिकार कार्यकर्ता की गिरफ़्तारी के बाद हुआ था.

इस प्रदर्शन में भाग लेने वाले लोगों की संख्या कुछ सैंकड़ों से लेकर हज़ारों तक बताई जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Reuters (audio)
Image caption तेहरान में सोमवार को प्रदर्शन हुए थे

झड़पों में 14 लोग घायल हुए और उनमें से दस पुलिसकर्मी थे.

लीबिया के सरकारी टीवी का कहना है कि सरकार के समर्थक एक अन्य जगह पर अपना प्रदर्शन कर रहे हैं और इन प्रदर्शनों की तस्वीरें सरकारी टीवी पर दिखाई गई हैं.

बीबीसी संवाददाता जोन लेयन के अनुसार गुरुवार को पूरे लीबिया में इंटरनेट के ज़रिए सरकार विरोधी प्रदर्शनों का आहवान किया गया है.

उधर पिछले 40 साल से सत्ता पर काबिज़ कर्नल गद्दाफ़ी ने कहा है कि वे ख़ुद भी प्रदर्शनों में शामिल हो सकते हैं.

ईरान में छिड़ा विवाद

ईरान में सोमवार को हुए प्रदर्शनों में एक 26 वर्षीय युवक सानेह जालेह की मृत्यु हो गई थी.

अब इस व्यक्ति की मृत्यु के बाद सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच विवाद छिड़ गया है.

मंगलवार को ख़ासी सुरक्षा के बीच तेहरान में सानेह जालेह का नमाज़े जनाज़ा हुआ.

ईरान के सरकारी मीडिया के अनुसार इस दौरान सरकार के समर्थकों और कुछ-एक लोगों के बीच झड़पें हुई जो राजद्रोह के अभियान से जुड़े हुए हैं.

सरकार का दावा है कि जालेह सरकार समर्थक प्रदर्शनकारी था और वह विपक्षी प्रदर्शनकारियों की गोली का निशाना बना. फ़िलहाल स्पष्ट नहीं है कि जालेह किस तरह मारा गया. विपक्ष का आरोप है कि वह उनका समर्थक था और प्रशासन ने उसे मार दिया है.

संबंधित समाचार