अफ़ग़ान 'हवाला ग्रुपों' पर प्रतिबंध

अमरीकी वित्त मंत्रालय

अमरीका ने कहा है कि वो अफ़ग़ानिस्तान में 16 ग्रुपों और एक व्यक्ति विशेष के ख़िलाफ़ पाबंदी लगा रहा है.

अमरीकी सरकार का आरोप है कि ये ग्रुप हवाला और मादक पदार्थों की तस्करी में शामिल हैं.

इन ग्रुपों में काबूल का 'न्यू अंसारी एक्सचेंज' भी शामिल है जिसके बारे में कहा जाता है कि वह अफ़ग़ानिस्तान में पैसों के हस्तानांत्रण की सबसे बड़ी कंपनी है.

अमरीका का इल्ज़ाम है कि ये कंपनी अफ़ग़ानिस्तान में हेरोइन, अफ़ीम और मॉर्फ़ीन जैसे मादक पदार्थों की तस्करी के पैसों के हवाला कारोबार में शामिल है और इसकी शाखा दुबई में भी है.

Image caption अफ़ग़ानिस्तना में बड़े पैमाने पर मादक पदार्थों की खेती होती है

अमरीकी वित्त मंत्रालय का कहना है कि 'न्यू अंसारी' ने दो बड़े तस्करों के करोड़ों डॉलर हवाला के ज़रिए दुबई भेजे है.

इन तस्करों में से एक दक्षिण-पश्चिम एशिया और मध्य-पूर्व में हेरोइन या मादक पदार्थ सप्लाई करता है जबकि दूसरा मादक पदार्थ, अफ़ीम और मॉर्फ़ीन की अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान और ईरान के सीमावर्ती इलाक़ों से तस्करी करता है.

वॉशिंगटन का कहना है कि वो अमरीका में उनकी संपत्ति ज़ब्त कर लेगा और अमरीकी नागरिकों पर भी प्रतिबंधित कंपनियों के साथ व्यापार करने पर पाबंदी लगा देगा.

अमरीका का कहना है कि नशीले पदार्थों के व्यापार से तालिबान विद्रोह को बल मिल रहा है.

पिछले एक दशक में अमरीकी वित्त मंत्रालय ने कथित तौर पर तस्करी में शामिल 900 से ज़्यादा व्यापारों को ब्लैकलिस्ट किया है.

संबंधित समाचार