मैं इस्तीफ़ा नहीं दूंगा: कर्नल गद्दाफ़ी

इमेज कॉपीरइट APTN

लीबिया में मचे कोहराम के बीच देश के शासक कर्नल गद्दाफ़ी ने लीबिया के सरकारी टीवी चैनल पर देश को संबोधित किया है. गद्दाफ़ी ने कहा कि उनके पास कोई पद नहीं है इसलिए उनके इस्तीफ़ा देने का कोई सवाल नहीं.

उन्होंने उस इमारत से देश को संबोधित किया जो लगभग 20 वर्ष पहले अमरीकी बमबारी से नष्ट हो गई थी और उसे उसी स्थिति में रखा गया है.

उनका कहना था कि वो एक क्रांतिकारी है, राष्ट्रपति नहीं हैं इसलिए उनके कोई पद छोड़ने का प्रश्न नहीं उठता है.

इधर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने लीबिया में प्रदर्शनकारियों पर बल प्रयोग की निंदा की है और कहा है कि इसके लिए ज़िम्मेदार लोगों के ख़िलाफ़ क़दम उठाए जाने चाहिए.

एक बयान में सुरक्षा परिषद ने लीबिया में अधिकारियों से तत्काल हिंसा बंद करने और लोगों की माँगों पर ध्यान देने की अपील की है.

गद्दाफ़ी ने कहा कि कायर और गद्दार लोग लीबिया को ऐसी जगह की तौर पर पेश कर रहे हैं जहां अफ़रातफ़री मची हुई है.

उन्होंने कहा कि लीबिया के दुश्मन देश की छवि को धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं.

गद्दाफ़ी ने अपनी 'ग्रीन बुक' का हवाला देते हुए कहा कि देश के ख़िलाफ़ काम करने वालों को मौत की सज़ा का प्रावधान है.

उन्होंने अपने समर्थकों से कहा कि वे उनके शासन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे 'कॉकरोचों' पर हल्ला बोल दे.

उल्लेखनीय है कि मानवाधिकार संगठनों का कहना है कि लीबिया में हिंसा से अब तक लगभग 300 लोग मारे गए हैं.

गद्दाफ़ी ने अपने संबोधन में कहा कि वे एक क्रांतिकारी नेता हैं और इसका अर्थ है कि ज़िंदगी के आख़िर तक क़ुर्बानी देना.

'प्रदर्शनकारी कॉकरोच'

उन्होंने कहा वे एक योद्धा हैं जिन्होंने लीबिया को सम्मान दिलाया है और वे अपने देश में ही शहीद की मौत मरेंगे.

अमरीका की ओर इशारा करते हुए कर्नल गद्दाफ़ी ने कहा कि सुपरपॉवर जानते हैं कि वे उन्हें नहीं हरा सकते और वो आत्मसमर्पण करने वाले नहीं हैं.

गद्दाफ़ी ने कहा कि लीबिया में कुछ लोग युवाओं के बीच ड्रग्स और हथियार बांटकर ट्यूनीशिया और मिस्र के घटनाक्रम को दोहराना चाह रहे हैं.

अपने लंबे भाषण में गद्दाफ़ी ने कहा कि वो अधिकार अपने आप नहीं रखते, सभी अधिकार जनता के पास हैं. उन्होंने देश में नए सिरे से नगरनिगम समितियों का गठन करने का आश्वासन दिया.

गद्दाफ़ी ने बेनग़ाज़ी में जमे सरकार विरोध प्रदर्शनकारियों को भी खूब बुरा भला कहा. उनका कहना है कि बेनग़ाज़ी में आंतक फैला दिया गया है.

कर्नल गद्दाफ़ी ने चेतावनी दी कि लीबिया में आग लग सकती है.

उन्होंने अपने समर्थकों को सड़क पर उतर कर प्रदर्शनकारियों का मुक़ाबला करने को कहा. साथ ही उन्होंने विरोध प्रदर्शनों के पीछे इस्लामी कट्टरपंथियों का हाथ बताया.

संबंधित समाचार