असांज को स्वीडन भेजने का आदेश

जूलिएन असांज इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption असांज अदालत के फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील करेंगे.

ब्रिटेन की एक अदालत ने विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज को स्वीडन प्रत्यर्पित करने का आदेश दिया है जहां असांज पर यौन अपराध का एक केस चल रहा है.

जूलियन असांज ने इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ अपील करेंगे. असांज स्वीडन में उनपर लगाए गए यौन अपराध के आरोपों का हमेशा खंडन करते रहे हैं.

असांज के अनुसार उनपर लगाए गए आरोप राजनीति से प्रेरित हैं.

जूलियन असांज की वेबसाइट विकीलीक्स ने कई संवदेनशील दस्तावेज इंटरनेट पर मुहैया करवा कर अमरीका समेत कई देशों को शर्मसार किया था. इन दस्तावेजों में अमरीकी दूतावासों के गोपनीय संदेश भी शामिल थे.

असांज को पिछले साल सात दिसंबर को एक यूरोपीय गिरफ़्तारी वारंट के तहत हिरासत में लिया गया था और ज़मानत मिलने से पहले उन्होंने इंग्लैंड की एक जेल में नौ दिन बिताए थे.

सुनवाई के दौरान असांज के वकील ने कहा था कि स्वीडन में बलात्कार के मुक़दमें गुप्त रूप से सुने जाते हैं जिससे न्याय मिलने में दिक्कत होती है.

असांज के वकील ज्योफ़्री रॉबर्ट्सन क्यूसी ने ये भी कहा कि अगर असांज को स्वीडन भेजा जाता है तो वहां उनके ख़िलाफ़ एक अलग केस दर्ज कर उन्हें अमरीका प्रत्यर्पित किया जा सकता है और अमरीका में उन्हें मृत्युदंड का सामना कर सकता है.

संबंधित समाचार