पस्त हो चुकी है गद्दाफ़ी की वायुसेना: पश्चिमी सेना

इमेज कॉपीरइट Reuters

लीबिया में जारी सैन्य अभियान में शामिल ब्रिटेन की वायुसेना के एक कमांडर का कहना है कि गद्दाफ़ी समर्थित वायुसेना पस्त हो चुकी है और उसमें अब लड़ने की ताकत नहीं.

ब्रिटेन की वायुसेना के उप-मार्शल ग्रेग बैगवेल का कहना है कि पश्चिमी सेनाओं ने लीबिया पर हवाई नियंत्रण कर लिया है और अंतरराष्ट्रीय सेना वायुसेना को पस्त करने के लिए कठोर से कठोर प्रयास कर रही है.

उन्होंने कहा कि गठबंधन सेनाएं अब लीबिया में निर्विरोध रुप से हवाई निरीक्षण कर सकती हैं.

बैगवेल ने कहा है कि लीबिया में गद्दाफ़ी की सेना पर कड़ी नज़र रखी जा रही है और जब भी वो आम नागरिकों पर हमला कर रहे हैं उन्हें निशाना बनाया जा रहा है.

थलसेना पर निशाना

साथ ही अमरीकी सेना के एक कमांडर ने कहा है कि लीबिया में अब अगला निशाना विद्रोहियों पर हमला कर रही कर्नल गद्दाफ़ी की थलसेना पर होगा.

अमरीका सेना के वरिष्ठ अधिकारी मार्गारेट क्लेन का कहना है कि संयुक्त राष्ट्र की ओर से पारित प्रस्ताव के तहत आम नागरिकों की सुरक्षा के लिए गद्दाफ़ी समर्थित सेना के टैंकों और सैन्य दस्तों पर भी हमले की अनुमति है.

उन्होंने कहा, ''हम लीबिया में मौजूद बेगुनाह लोगों पर नज़र रखे हुए हैं और इस बात को सुनिश्चित करेंगे की उन पर हमले न हों.''

इस बीच नेटो ने कहा है कि लीबिया में हथियारों की खरीद-फ़रोख्त पर प्रतिबंध लागू करने के लिए उसके सदस्य देशों ने 16 युद्धपोत और तुर्की ने पांच युद्धपोत देने का फैसला किया है.

इससे पहले चश्मदीदों ने बताया था कि लीबिया में अंतरराष्ट्रीय सेना ने विद्रोहियों के कब्ज़े वाले मिसराता शहर में फिर हमले किए.

'हम शुक्रगुज़ार हैं'

मिसराता में विद्रोहियों के एक प्रवक्ता ने कहा, '' मिसराता की स्थिति बेहद खराब थी. हमारी उम्मीदें खत्म होती जा रही थीं. लेकिन अंतरराष्ट्रीय सेना ने सही समय पर सही बल के साथ लगातार हमले किए. उन्होंने कई सैन्य दस्तों को शहर से खदेड़ भी दिया जो काबिले तारीफ़ है.''

प्रवक्ता ने कहा, ''ये हमले इतने कारगर रहे हैं गद्दाफ़ी की सेनाएं अब उनसे डरती हैं. मैं अंतरराष्ट्रीय सेना का शुक्रगुज़ार हूं. उन्होंने जो किया है उसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता.''

इससे पहले सरकारी टेलिविज़न पर नज़र आए कर्नल गद्दाफ़ी ने कहा था कि लीबिया में आखिरकार जीत उनकी ही होगी.

राजधानी त्रिपोली में अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए गद्दाफ़ी ने कहा कि विद्रोहियों और अमरीका, ब्रिटेन, फ्रांस के सैन्य गठबंधन से हो रही इस लड़ाई में 'अंतत: जीत हमारी ही होगी'.

साथ ही अमरीका कि विदेशमंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा था कि, ‘गद्दाफ़ी के क़रीबी विश्वभर में उनके निर्वासन की संभावनाएं तलाश रहे हैं.’ हालांकि उन्होंने इस बारे में सटीक और विस्तृत जानकारी नहीं दी थी.

संबंधित समाचार