फ़्रांस ने लीबियाई लड़ाकू विमान गिराया

एक हमले के बाद लीबियाई टीवी पर दिखाया गया दृश्य
Image caption फ़्रांस ने कहा है कि लीबियाई सेना को कुछ दिनों या हफ़्तों में नष्ट कर दिया जाएगा

अमरीकी अधिकारियों का कहना है कि फ़्रांसीसी लड़ाकू विमानों ने एक लीबियाई लड़ाकू विमान के गिरा दिया है.

ग़ौरतलब है कि लीबिया पर 'नो फ़्लाई ज़ोन' कायम करने के सुरक्षा परिषद के फ़ैसले के बाद अमरीका, ब्रिटेन और फ़्रांस की ओर से लीबिया के सैन्य ठिकानों पर हो रही बमबारी के दौरान ये ऐसी पहली घटना है. ये घटना पश्चिमी शहर मिसराता के पास हुई है.

महत्वूर्ण है कि गठबंधन सेनाओं की दर्जनों मिसाइलों ने पहले ही कर्नल गद्दाफ़ी के सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया है और बुधवार को ब्रिटेन ने दावा किया था कि लीबिया की वायुसेना की लड़ने के लायक काबिलियत नहीं रह गई है.

उधर फ़ांसीसी विदेश मंत्री एलेन जूप ने कहा है कि लीबिया कि सैन्य शक्ति तो नष्ट करने में कुछ दिन या हफ़्ते लग सकते हैं लेकिन कई महीने नहीं लगेंगे.

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के 'नो फ़्लाई ज़ोन' कायम करने का प्रस्ताव तब आया था जब अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इच्छा जताई थी कर्नल गद्दाफ़ी की फ़ौजे सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ बल प्रयोग बंद करें.

ट्यूनिशिया और मिस्र में सरकार विरोधी प्रदर्शनों और सत्ता परिवर्तन के बाद, लगभग डेढ़ महीने पहले लीबिया में सरकार विरोधी प्रदर्शन शुरु हुए थे जिन्होंने बाद में कर्नल गद्दाफ़ी की सरकार के ख़िलाफ़ विद्रोह का रूप ले लिया था.

गद्दाफ़ी के विरोधी चाहते हैं कि 1969 से सत्ता में बने हुए कर्नल गद्दाफ़ी सत्ता छोड़ दें और लीबिया में व्यापक राजनीतिक सुधार शुरु हों.

लीबिया पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन

लीबिया के शहर अजदाबिया के पूर्व में स्थित मिसराता में फिर जंग शुरु हो गई है और निवासियों ने गोलाबारी, तोपों से फ़ायरिंग और घरों को आग लगने का विवरण दिया है.

उधर नैटो के सदस्य देश लीबिया के ऊपर 'नो फ़्लाई ज़ोन' की ज़िम्मेदारी लेने पर चर्चा कर रहे हैं लेकिन इस मुद्दे पर कोई सहमति नहीं बन पाई है.

तुर्की भी नैटो का हिस्सा है और समुद्री ब्लॉकेड यानी समुद्र से लीबिया को घेरने की प्रक्रिया में भाग ले रहा है. लेकिन उसे 'नो फ़्लाई ज़ोन' की कमान नैटो के हाथों में होने पर कुछ आपत्तियाँ हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने सभी पक्षों से अपील की है कि वे जंग से बाज़ आएँ. उनका कहना था, "जो भी अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार क़ानूनों का उल्लंघन करता है, उसकी ऐसे कारनामों के लिए पूरी ज़िम्मेदारी तय की जाएगी."

ब्रितानी विदेश मंत्री विलियम हेग ने कहा है कि सरकार लीबियाई विपक्षी दलों से संपर्क साधने में जुटी है और उन्होंने कर्नल गद्दाफ़ी के विरोधियों से कहा है कि वे अंतरिम प्रक्रिया की तैयारी करें.

उनका कहना था, "बेनग़ाज़ी स्थित अंतरिम राष्ट्रीय परिषद से संपर्क हो गया है और परिषद के विशेष दूत मैहमूद जबरील को लंदन आने का न्योता दिया गया है. ब्रिटेन मंगलवार को लीबिया पर एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन बुला रहा है."

उनका ये भी कहना था कि लीबियाई तेल उद्योग पर प्रतिबंधों को कड़ा करने के तहत यूरोपीय संघ ने सख़्त क़दम उठाए हैं.

संबंधित समाचार