इतिहास के पन्नों से: भयानक विमान दुर्घटना और सोवियत संघ में चुनाव

अगर इतिहास के पन्नों में झांके तो 27 मार्च के दिन की कुछ प्रमुख घटनाएँ हैं - टेनेराइफ़ विमान दुर्घटना, सोवियत संघ में मतदान और भविष्य के लड़ाकू विमान ने भरी पहली उड़ान

1977: टेनेरीफ़ विमान दुर्घटना में 583 मारे गए

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption टेनेराइफ़ विमान हादसे में 560 लोग मारे गए थे.

स्पेन के कनेरी द्वीपों में जाने-माने पर्यटक स्थल टेनेरीफ़ में दो जंबो विमान हवाई पट्टी पर ही टकरा गए.

एटलांटिक महासागर में स्थित इस द्वीप में हुई ये विमान दुर्घटना उस समय तक दुनिया की सबसे भयानक थी.

टेनेरीफ़ हवाई अड्डे पर भीषण धमाका सुना गया और आग लग गई.

इनमें से एक विमान हॉलैंड की एयरलाइन केएलएम का था और दूसरा पैन अमेरिकन एअरलाईन का था.

केएलएम विमान का कोई यात्री जीवित नहीं बचा हालाँकि चमत्कारी रूप से पैन अमेरिकन एयरलाइल में सवार 378 लोगों में से 60 को जीवित निकाल लिया गया.

1989: सोवियत संघ में लाखों ने मतदान में हिस्सा लिया

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption इन चुनावों में कई दिग्गज कम्यनिस्ट नेता हार गए थे.

सोवियत संघ के इतिहास में पहली बार लोगों ने ऐसे चुनाव में भाग लिया जिसमें वे आधिकारिक कम्युनिस्ट पार्टी के उम्मीदवार के अलावा किसी अन्य प्रत्याशी के लिए वोट दे सकते थे.

इस चुनाव में कई दिग्गज कम्युनिस्ट नेता हार गए.

मॉस्को के एक शहरी ने इन चुनावों पर कुछ इस तरह की टिप्पणी, "पिछले 72 सालों में इस तरह का कुछ नहीं हुआ है."

राष्ट्रपति मिखाइल गॉर्बेचोव के राष्ट्रपति रहते हुए ये चुनाव कराए गए. इन चुनोवों का सरकारी सोवियत अख़बार इज़वेस्तिया ने स्वागत किया.

पोलित्ब्यूरो से निकाले जा चुके बोरिस येल्त्सिन ने मॉस्को से 89 प्रतिशत मतों के साथ चुनाव जीता. बाद में वे रूस के राष्ट्रपति भी बने.

1994: यूरोफ़ाइटर ने भरी पहली उड़ान

इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption यूरोफ़ाइटर को भविष्य का लड़ाकू विमान कहा गया था.

मुसीबतों से गिरे रहे यूरोपियन फ़ाइटर एअरक्राफ़्ट यूरोफ़ाइटर ने दो साल देरी पहली उड़ान भरी.

लड़ाकू विमान जर्मनी के मांचिंग से उड़ा और चालीस मिनट तक आसमान में रहा.

यूरोफ़ाइटर यूरोप में बनाया गया सबसे महंगा लड़ाकू विमान है.

इसे ब्रिटेन की ब्रिटिश ऐरोस्पेस डिफ़ेंस, जर्मनी की डासा, इटली के ऐलेनिया और स्पेन का कासा नामक बड़ी कंपनियां तैयार कर रही हैं.

लगभग 1370 मील प्रतिघंटा की रफ़्तार से उड़ने वाला ये फ़ाइटर जेट दुनिया के अत्याधुनिक युद्ध विमानों को टक्कर देगा.

संबंधित समाचार