फ़ुकुशिमा में इमरजेंसी स्तर बढ़ाया गया

फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र

जापान की परमाणु सुरक्षा एजेंसी के प्रवक्ता हिदेहिको निशियामा ने कहा है कि फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र में इमरजेंसी के स्तर को बढ़ा कर 'लेवल 7' कर दिया है.

परमाणु संयंत्रों में लेवल 7 की इमरजेंसी इससे पहले 1986 में तत्कालीन सोवियत संघ के चेर्नोबिल (अब यूक्रेन में) परमाणु हादसे के लिए घोषित की गई थी.

निशियामा ने फ़ुकुशिमा और चेर्नोबिल के हालात की तुलना करते हुए कहा कि फ़ुकुशिमा में चेर्नोबिल के मुक़ाबले महज़ 10 प्रतिशत विकिरण रिसाव हो रहा है.

जापान में 11 मार्च को आए भयानक भूकंप में फ़ुकुशिमा परमाणु संयंत्र बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था. तब से इस परमाणु ऊर्जा संयंत्र में रेडियधर्मी पदार्थ रिस रहा है.

भूकंप के बाद से ही वैज्ञानिक और कर्मचारी लगातार स्थिति को नियंत्रण में रखने की कोशिश में जुटे हुए हैं.

'चेर्नोबिल से अलग हैं हालात'

भले ही फ़ुकुशिमा में इमरजेंसी स्तर चेर्नोबिल के बराबर कर दिया गया हो लेकिन जापान की परमाणु सुरक्षा एजेंसी के प्रवक्ता हिदेहिको निशियामा ने स्पष्ट किया कि चेर्नोबिल परमाणु दुर्घटना और फ़ुकुशिमा के हालात में काफ़ी अंतर है.

उन्होंने कहा कि चेर्नोबिल रिएक्टर फट गया था और उसमें कई लोगों की मौत हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Other
Image caption वर्ष 1986 में चर्नोबिल में हुई दुर्घटना अब तक का सबसे बड़ा परमाणु हादसा है.

निशियामा ने कहा, "चेर्नोबिल में विकिरण के रिसाव की वजह रिएक्टर में धमाका था. फ़ुकुशिमा में भले ही रिएक्टर की इमारत की छत धमाके में गिर गई हो, लेकिन रिसाव के बावजूद फ़ुकुशिमा के रिएक्टर ध्वस्त नहीं हुए हैं. इस तरह से ये स्थिति चेर्नोबिल से अलग है."

निशियामा ने कहा कि चेर्नोबिल में धमाके के बाद कोई भी रिएक्टर की इमारत में प्रवेश नहीं कर पाया था और उसे कई दिनों तक ऐसे ही छोड़ दिया गया था, इसके विपरित फ़ुकुशिमा में लोग दिन रात काम में लगे हुए हैं.

उन्होंने कहा कि अबतक परमाणु सुरक्षा एजेंसी ये पता नहीं लगा पाई है कि किस रिएक्टर से कितना रिसाव हो रहा है.

'चेर्नोबिल के बराबर का इमरजेंसी स्तर'

इस अंतरराष्ट्रीय स्केल के हिसाब वर्तमान में फ़ुकुशिमा में लेवल 5 की इमरजेंसी है. अब इसे 'लेवल 7' किया जा रहा है.

परमाणु संयंत्रों में ख़तरे के स्तर के इस पैमाने को 'इंटरनेशनल न्यूक्लियर इवेंट स्केल' कहा जाता है.

समाचार एजेंसी क्योडो के अनुसार इमरजेंसी स्तर को बढ़ाने का निर्णय सोमवार को फ़ुकुशिमा से एकत्रित किए गए ताज़ा आंकड़ों के बाद लिया गया है.

सोमवार को जापान के परमाणु सुरक्षा आयोग ने कहा था कि फ़ुकुशिमा से अब प्रति घंटे 10 हज़ार टेराबेक्वेर्ल्स रेडियोधर्मी पदार्थ रिस रहा है.

टेराबेक्वेर्ल्स रेडियोधर्मी पदार्थ के विघटन को मापने की यूनिट है.

संबंधित समाचार