जापान पर मंदी की मार

जापान कार
Image caption जापान के कई बंदरगाहों पर माल लादने के लिए लंबे समय तक इंतज़ार करना पड़ रहा है.

जापान की सरकार का कहना है कि पिछले माह आए भूकंप के बाद उसकी अर्थव्यवस्था में मंदी के आसार नज़र आ रहे हैं.

अर्थव्यवस्था पर अपनी ताज़ा रिपोर्ट में सरकार ने कुछ अहम क्षेत्रों जैसे निर्यात, औद्योगिक उत्पादन और निजी उपभोग की वस्तुओं की मांग में कमी आने की भविष्यवाणी की है.

फुकुशिमा के परमाणु संयत्र में हुई दुर्घटना ने सुनामी की वजह से पैदा हुए बिजली के संकट को और बढ़ा दिया है.

जापान के प्रधान मंत्री नाओतो कान ने इस बात को लेकर चिंता जताई है कि लोग अपने सामान्य स्तर से कम ख़र्च कर रहे हैं.

ये कहते हुए कि लोगों ने ऐसा सुनामी पीड़ितों के साथ सहानभूति जताने के लिए किया है, उन्होंने कहा कि लोगों को अब सामान्य जीवन स्तर की ओर वापस लौटने की ज़रूरत है.

टोयोटा

इस बीच जापानी कार निर्माता टोयोटा अप्रैल और मई के दौरान ब्रिटेन, फ्रांस, तुर्की और पोलैंड स्थित अपनी पाँच फैक्टरियों में काम रोकने जा रहा है.

टोयोटा ने चंद दिनों पहले ही अमरीका के लिए भी इसी तरह की घोषणा की थी.

काम रोकने की ये घोषणाएं कल-पूर्ज़ो की कमी की वजह से करनी पड़ी हैं.

कार निर्माण के लिए टोयोटा उसके पार्टस विश्व के अलग-अलग जगहों से अपने इन फैक्ट्रियों में मंगवाता है लेकिन सुनामी की वजह से माल से लदे कई जहाज़ समय पर माल की डिलीवरी नहीं कर पाए हैं.

टोक्यो में मौजूद बीबीसी संवाददाता रोनाल्ड बर्क का कहना है कि भूकंप का असर उन सारी कंपनियों पर पड़ा है जिनके प्लांट देश के उत्तर-पूर्वी इलाको़ में मौजूद हैं जिसकी वजह से वो देश और विश्व के दूसरे इलाक़ों में स्थित प्लांटों के लिए माल नहीं भेज पा रहे हैं.

संबंधित समाचार