लीबिया में दस हज़ार लोगों की मौत: इटली

इमेज कॉपीरइट Reuters

इटली के विदेश मंत्री फ़्रेंको फ़्रातिनी ने कहा है कि फ़रवरी में लीबिया में शुरु हुए संघर्ष के बाद से वहाँ दस हज़ार लोग मारे जा चुके हैं और 55 हज़ार ज़ख्मी हुए हैं.

इतालवी विदेश मंत्री ने बताया कि ये आँकड़ें उन्हें लीबियाई विद्रोहियों की गर्वनिंग बॉडी के अध्यक्ष मुस्तफ़ा अब्दुल जलील ने रोम में दिए हैं.

इन आँकड़ों की स्वतंत्र तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी है.

उधर ब्रिटेन ने पूर्वी लीबिया में विद्रोहियों के गढ़ बेनगाज़ी में अपने सैन्य अधिकारियों का एक दल भेजने का फ़ैसला किया है.

ब्रिटेन के विदेश मंत्री विलियम हेग ने कहा कि ये दल विद्रोहियों को ट्रेनिंग और हथियार नहीं देगा बल्कि उनके सैन्य संगठन को मज़बूत करने के लिए सलाह देगा.

इसके अलावा ये ब्रितानी दल विद्रोहियों के साथ मिलकर दूरसंचार और लॉजिस्टिक्स में सुधार लाने में मदद करेगा.

गहराता सैन्य अभियान?

ब्रिटेन ने कहा है कि इस सैन्य दल की नियुक्ति संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के प्रावधानों के मुताबिक है. लेकिन कुछ टीकाकार इसे लीबिया में ब्रिटेन के बढ़ते सैन्य अभियान के तौर पर देख रहे हैं.

फ़्रांस के विदेश ने इस बात का विरोध किया है कि लीबिया में ज़मीनी स्तर पर गठबंधन सेना के सैनिकों को भेजा जाए.

इस बीच त्रिपोली में लीबिया के विदेश मंत्री ने संघर्षविराम की अपील की है और नैटो के इस आरोप से इनकार किया है कि लीबियाई सेना नागरिकों पर मस्जिदों और अस्पतालों से हमले कर रहे हैं.

लीबिया के विदेश मंत्री का कहना था कि अगर नैटो नागरिकों की मदद करना चाहती है तो उन्हें हवाई हमले बंद करके कूटनीति पर ज़ोर देना चाहिए.

उन्होंने कहा कि राहत संस्थाओं को संयुक्त राष्ट्र और रेड क्रॉस की तरह लीबिया में मदद के लिए आगे आना चाहिए और उन्हें आने-जाने की पूरी आज़ादी होगी.

संबंधित समाचार