इंतज़ार का 'इतिहास'

प्रिंस चार्ल्स ब्रिटेन के इतिहास में उत्तराधिकार हासिल करने के लिए सबसे लंबे समय तक इंतज़ार करनेवाले राजकुमार हैं.

प्रिंस ऑफ़ वेल्स को राजा का पद हासिल करने के लिए इंतज़ार करते हुए अबतक 59 साल, दो महीने और 14 दिन हो चुके हैं और अभी भी ये साफ़ नहीं कि उन्हें ये गद्दी कब हासिल होगी.

Image caption कुछ लोग चाहते हैं कि प्रिंस चार्ल्स की जगह गद्दी उनके बेटे विलियम्स को सौंपी जाए.

बासठ साल के प्रिंस चार्ल्स के इस लंबे इंतज़ार ने उनके परदादा एडवर्ड सातवें का रिकॉर्ड तोड़ दिया है जिन्होंने रानी विक्टोरिया के बाद 1901 में ब्रिटेन की गद्दी संभाली थी.

हालांकि 'उत्तराधिकार हासिल करने के लिए सबसे लंबे समय तक इंतज़ार करनेवाले ब्रिटेन के राजकुमार' की ये कोई ऐसी उपलब्धि नहीं है जिसे वेल्स के युवराज वाक़ई हासिल करना चाहते थे.

वो तीन साल की उम्र से ब्रिटेन की राजगद्दी पर बैठने की इच्छा पूरी होने का इंतज़ार कर रहे हैं.

हालांकि उत्तराधिकारी के रूप में उन्होंने हाथ पर हाथ धरे केवल राजा बनने का इंतज़ार ही नहीं किया है.

अलग करने की चाहत

ब्रिटेन के राजकुमार की कोई खास भूमिका तय नहीं होने के बावजूद प्रिंस चार्ल्स ने कई महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारियां अपने हाथों में ले रखी हैं जिनमें युवा बेरोज़गारी, स्थापत्य, पर्यावरण और ब्रिटेन की मूल वासी लाल गिलहरियों का संरक्षण शामिल है.

उनके अधिकारियों का कहना है कि प्रिंस कुछ अलग कर गुज़रना चाहते हैं क्योंकि वो जानते हैं कि राजगद्दी पर उनकी दावेदारी शायद ज़्यादा समय की नहीं होगी.

महारानी का शासनकाल ज़्यादा लंबा होने पर कुछ लोग चाहेंगे कि प्रिंस चार्ल्स की जगह प्रिंस विलियम को ही ब्रिटेन की राजगद्दी सौंपी जाए. हालांकि इसकी संभावना कम ही है.

ब्रिटिश साम्राज्य में 1936 के संवैधानिक संकट के बाद ऐसा कोई मौक़ा नहीं आया है जब ब्रिटेन के राजा ने अपना पद त्याग किया हो. तब दो बार तलाकशुदा एक अमरीकी महिला से विवाह के इच्छुक राजा एडवर्ड आठवें ने सत्ता का परित्याग कर दिया था.

लेकिन प्रिंस चार्ल्स के सामने ऐसी कोई परिस्थिति नहीं है और न ही उन्होंने गद्दी छोड़ने के कोई संकेत ही दिए हैं. हालांकि उनकी मां महारानी एलिजाबेथ द्वितीय के अच्छे स्वास्थ्य को देखते हुए उनका इंतज़ार और लंबा हो सकता है जिसकी शायद उन्हें आदत भी पड़ चुकी है.

संबंधित समाचार